Articles Hub

love story that make u cry in hindi-सच्चे प्यार का अर्थ

love story that make u cry in hindi

a real life romantic love story in hindi,best story in hindi,love story in short love,love story novel in hindi language,prem story in hindi,romantic love stories in hindi language,

देसिकहानियाँ में हम हर दिन एक से बढ़कर एक अजब गजब प्यार की कहानी प्रकाशित करते हैं। इसी कड़ी में हम आज “love story that make u cry in hindi ” प्रकाशित कर रहे हैं। आशा है ये आपको अच्छी लगेगी।
लेखक – खुश्बू

फरवरी का महीना चल रहा था, अमित मुंह लटकाए बैठा हुआ था. क्योंकि वह जानता था. कि इस साल भी वह अकेला ही रहेगा. और पार्क की ओर निकल पड़ा पार्क में हर जगह प्रेमी युगल बैठे हुए थे. और वहां पर अमित अपने आप को अकेला समझ रहा था. और सोच रहा था, कि सब की गर्लफ्रेंड है, बस में ही अकेला हूं यहां. ऐसे बता दिया जाए कि अमित दिखने में औसत से ज्यादा है. परंतु कोई लड़कि उसे भाव नहीं देती थी. अमित बैठा हुआ था. तभी उसने देखा, कि उसे झाड़ियों में से कोई देख रहा है. अमित शर्म आ गया और सुनिश्चित करने के लिए, कि वह सही देख रही है, वो वहां से आगे बढ़ा और दूसरी जगह गया. पर वह लड़की उसके पीछे पीछे आ गई. अमित के मन में गुदगुदी सी होने लगी. अमित के मन में लड्डू फूटने लगे, पर अमित और आगे जाने लगा. और वह लड़की उसके पीछे पीछे आने लगी. फिर पार्क से बाहर निकलते से ही अमित पलटा उस लड़की के पास गया. अमित ने जैसे इस लड़की को देखा, और हैरान हो गया. वह लड़की बिल्कुल लड़कों जैसी थी. छोटे बाल शर्ट पैंट और जूते, ना कोई बिंदी, ना ही कोई नथनी, ना ही कोई कान में बाली. उसने कड़क आवाज में पूछ, तुम मुझे घूर क्यों रही हो क्या चाहती हो. लड़की कुछ नहीं बोली और वो डर गई और कहने लगी नहीं. मैं आपको नहीं देख रही थी. और नहीं नहीं कर के बोलने लगी. फिर अमित ने अपनी आवाज कोमल की फिर कहा, मुझे देख रही थी. तो लड़की ने शरमाते हुए कहा, हां और इतना कहते सही साइकिल पर तेजी से भाग गई. अमित भैया बहुत खुश थे. पर अमित सोच ने सोचा था,कि उसकी गर्लफ्रेंड के लंबे बाल होंगे, प्यारी सी नथनी होगी और दो बड़े बड़े झुमके होंगे. और एक छोटी सी टिकी, जो उसकी सुंदरता को बढ़ा देगी, परंतु अमित ने जो सोचा था वो लड़की वैसी नहीं थी. पर उसने सोचा कोई और नहीं तो यही सही, ऐसे भी डूबते को तिनके का सहारे की जैसी थी वो लड़की. फिर क्या था, अगले दिन अमित ने उसे बहुत ढूंढा , पूरे पूरे शहर की हर एक गली चप्पा चप्पा छान मारा, पर वह लड़की नहीं मिली. फिर थक हार कर घर आया. और उसकी मां ने कहा, कि दूध लेकर आया. तो अमित ने कहा कि नहीं, मैं भूल गया. उसकी मां ने कहा जा दूध लेकर आ डेरी पर से, अमित दूध लेने गया और जैसे ही वहां गया. उसने उसी लड़की को वहां पाया और मालूम पड़ा, कि दुकान वाले भैया उसके पिताजी है. और वह लड़की उसे देखकर दंग रह गई और शरमा गई उस लड़की की पिताजी कहीं चले गए, और अमित ने उस लड़की से कहा, कि तुम्हारा नाम क्या है, उस लड़की ने कहा आदिती और शर्मा के चली गई. फिर क्या था. अमित भैया उसी गली के चक्कर काटने लगे, कभी किनारे पर खड़े होकर उसे देखते कभी इधर घरों के पीछे खड़ा होकर. उसे देखता था. फिर एक दिन अमित हिम्मत करके उसके पास गया और बोला, कि तुम मेरे साथ पार्क में चलोगी और अदिति शर्मा गई पर कहा कब अमित बोला 5:30 बजे, आदिती ठीक है बोल कर चली गई. फिर क्या था, अमित भाई 4:00 बजे ही वहां जाकर पहुंच गए. महंगा वाला कुर्ता, जरीवाला पजामा बिल्कुल हीरो से कम नहीं लग रहे थे हमारे अमित भैया. और पार्क में बैठे सभी युगलों की तरफ मुस्कान दे चुके थे. और जैसे ही 5:30 बजे वैसे ही वह लड़की आ गई, अमित ने उसे देखा, वह बिल्कुल रोज की तरह ही आई थी ना ही उसने बाल बनाए थे. ना ही ढंके के कपड़े पहने थे. बिल्कुल लड़कों जैसी लग रही थीं, और उसके पास आकर बैठ गई, दोनों शर्म आ रहे थे. पर अमित को शर्म के साथ साथ गुस्सा भी आ रहा था. उसे लग रहा था, कि सब उसी की तरफ देख रहे हैं, और हंस रहे हैं. और इतना सोचते अमित ने उस लड़की से मुंह फेर लिया. और लड़की में इस बात को अमित के चेहरे पर पढ़ लिया, और लड़की गुस्सा हो कर वहां से रोते-रोते चली गई. अमित को थोड़ा बुरा लगा, पर अमित के पास ही वही थी. यही सोच कर उसने फिर उस गली के चक्कर काटने लगा. और एक दिन साइकिल पर दूध के खाली केन लिए हुए आदिती कहीं जा रही थी. और अमित पीछे से आया. और उसने आदिती को रोक लिया आदिती शर्मा गई और गुस्सा भी होने लगी और अमित पर बरस पड़ी और कहने लगी. हां मुझे नहीं आता लड़कियों के जैसा रहना, मेरे घर में सिर्फ पिताजी है, पिताजी ने मुझे पाला है. मेरे पिताजी अकेले हैं, तो मुझे मदद करनी पड़ती है. और डेयरी के काम से बाहर भी जाना पड़ता है. रोज ना जाने कैसे-कैसे लोग यहां आते हैं. इसलिए मैं ऐसे ही रहती हो, तुम जानते हो, मैं तुम्हें कब से देख रही हूं. आज पूरे 3 साल हो चुके हैं. मैं तुम्हें रोज चुपके चुपके देखती हूँ , इतना कहते से ही आदिती रोने लगी. अमित को इस बात का बहुत ही पछतावा हुआ और उसने आदिती से कहा मुझे माफ कर दो मैं एक नंबर का पागल हूं. अपन फिर से चलते हैं. सुबह 5:30 बजे और अदिति ने कहा ठीक है,इस बार में थोड़ा लड़की बन कर आऊंगी और दोनों हंसने लगे.

और भी love story that make u cry in hindi के लिए लिंक्स पर क्लिक करें

एक अंधे की प्रेरणादायक कहानी
एक खास बैंक खाता
अकबर बीरबल और सोने का खेत
एक दयालु लड़के की प्रेरक कहानी

a real life romantic love story in hindi,best story in hindi,love story in short love,love story novel in hindi language,prem story in hindi,romantic love stories in hindi language,

और दोनो रोज मिलने लगे .अब अमित भी खुश था और आज इतनी खूश थी. क्योंकि दोनों को अब सच्चा प्यार हो चुका था.

मैं आशा करता हूँ की आपको ये ” love story that make u cry in hindi” कहानी आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें। इस कहानी का सर्वाधिकार मेरे पास सुरक्छित है। इसे किसी भी प्रकार से कॉपी करना दंडनीय होगा।

love story that make u cry in hindi

loading...
You might also like
moviexw | munir khan | Sarosh khan | where can i get stamp | Nashir shafi mir