ga('send', 'pageview');
Articles Hub

moral short stories in hindi language- मेहनत का फल

moral short stories in hindi language

moral short stories in hindi language, प्रेरक कहानियां, हिंदी प्रेरक कहानी, motivational story in hindi,hindi language,best story

देसिकहानियाँ में हम हर दिन एक से बढ़कर एक कहानी प्रकाशित करते हैं। इसी कड़ी में हम आज moral short stories in hindi language प्रकाशित कर रहे हैं। आशा है ये आपको अच्छी लगेगी।

लेखक – अशफाक

राजा अपनी कक्षा में सबसे आगे बैठा था, लेकिन रिजल्ट में सबसे पीछे आता था. ऐसा नहीं है कि वो मेहनत नहीं करता था. वो करीब छह घंटे स्कूल में पढ़ता और पांच घंटे घर आ कर पढ़ता. वो अपने रिजल्ट को लेकर अक्सर परेशान रहता. वो हमेशा यही सोंचता की मैं सबसे ज्यादा घंटे पढ़ता हूँ, लेकिन मैं अच्छे नंबर क्यों नहीं ला पाता. उसे स्कूल में भी सब यही बोलते की देखो कितना पढ़ता है, लेकिन अच्छे नंबर नहीं ला पता, राजा को ये बातें अच्छी नहीं लगती थी. अब तो उसे मास्टर भी यही बोलने लगे थे,

एक दिन राजा ने पढाई छोड़ने का फैसला किया और स्कूल जाना बंद कर दिया. उसे लगा की पढाई उसके लिए नहीं है. सब केवल परीक्षा के समय ही पढाई करते हैं और अच्छे नंबर ले आते हैं, लेकिन मैं पुरे साल पढ़ता फिर भी अच्छे नंबर नहीं लापता. पढाई छोड़ने के बाद वो खेतों में काम करने लगा, लेकिन उसका वहां भी मन नहीं लगता था.

और भी moral short stories in hindi language के लिए लिंक्स पर क्लिक करें
मजदूर और होटल वाले की प्रेरक कहानी
विश्व के सर्वश्रेष्ठ विचारों का संग्रह
पंडित और अमीर आदमी
दो चोर और जादुई बांसुरी की प्रेरक कहानी

moral short stories in hindi language, प्रेरक कहानियां, हिंदी प्रेरक कहानी, motivational story in hindi,hindi language,best story

इसके बाद उसने कई काम किये पर किसी में भी उसका मन नहीं लगता था. अब उसे लगने लगा की उससे कुछ नहीं हो पायेगा और वो डिप्रेशन में चला गया. फिर वो आत्महत्या करने की सोंचने लगा.

एक दिन राजा ने अपने आप को एक कमरे में बंद कर लिया और आत्महत्या करनी की तयारी करने लगा. तभी उसके एक गुरूजी उससे मिलें आ गये. राजा अपने गुरु जी को बहुत मानता था, उसने अपने गुरूजी को सारी बात बताई. पहले तो गुरु जी ने कुछ न कहा, बाद में कहा की देखो बेटा सबसे पहले तुम अपने दिमाग से आत्महत्या का विचार निकल दो और ठन्डे दिमाग से सोंचो की ऐसा करने से तुम्हे क्या मिलेगा. इसके बाद राजा ने कहा, “मेरे पास अब कोई और चारा नहीं बचा है अब मैं क्या करूँ”

गुरु जी ने कहा की बेटा जब भी तुम अपने जीवन में कोई भी काम करो, तो उसे पुरे मन के साथ करो वरना न करो, तभी तुम्हे सफलता मिलेगी. राजा को गुरूजी की बात समझ में नहीं आई. गुरु जी ने उसे समझाते हुआ कहा कि जब तुम पढाई करते हो तो टीवी चला कर पढ़ते हो, कभी तुम गाना सुनते- सुनते पढ़ते हो तो कभी बे मन से पढ़ते हो. इस तरफ अगर तुम दिन भर भी पढ़े तो कुछ ही नही होगा. अगर तुम सिर्फ एक घंटा सिर्फ पढाई करोगे और कोई भी काम नहीं करोगे तभी तुम्हे सफलता मिलेगी.

moral short stories in hindi language, प्रेरक कहानियां, हिंदी प्रेरक कहानी, motivational story in hindi,hindi language,best story

राजा को गुरु जी की बात समझ में आ गई. इसके बाद राजा ने सिर्फ पढाई की और पढाई की. अब राजा अपनी कक्षा में अव्वल आता है. और जो भी काम करता है उसमें सफल होता है,
कहानी से सीख: जब भी कोई काम करो तो उसे पुरे मन के साथ करो, वरना न करो

मैं आशा करता हूँ की आपको ये “moral short stories in hindi language” प्रेरक कहानी आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें। इस कहानी का सर्वाधिकार मेरे पास सुरक्छित है। इसे किसी भी प्रकार से कॉपी करना दंडनीय होगा।

moral short stories in hindi language

loading...
You might also like