Articles Hub

moral stories in hindi for class 9-बाज और मैना की प्रेरणादायक कहानी

 

moral stories in hindi for class 9, short moral stories for kids, Panchatantra short stories, Panchatantra tales, प्रेरक कहानिया, moral stories in hindi






हम हर दिन एक से बढ़कर एक प्रेरणादायक कहानिया प्रकाशित करते हैं। इसी कड़ी में हम आज  “बाज और मैना की प्रेरणादायक कहानी” moral stories in hindi for class 9प्रकाशित कर रहे हैं। आशा है ये आपको अच्छी लगेगी।
लेखक- संजीव

एक बार पंछियों के राजा समझे जाने वाले बाज को एक मैना से प्यार हो गया और वो मैना से शादी की बात करने उसके पिता के पास पंहुचा। मैना का पिता पूरे दिल से शाद्दी के खिलाफ था पर वो बाज के नुकीले चोंच और पंजे से डरता था। उसने एक उपाय सोचा और बाज को अपने पास बुला उससे पुछा की तुम मेरी बेटी से क्यूँ प्यार करते हो? बाज ने जवाब दिया की उसकी सुरीली आवाज का मैं दीवाना बन गया हूँ। इसपर मैना के पिता ने कहा की तुम मेरी बेटी से शाद्दी करने के लिए क्या कर सकते हो? इसपर बाज ने कहा की कुछ भी।
और भी प्रेरणादायक कहानियां पढ़ना ना भूलें==>
सोच
कोयल और मोर की प्रेरणादायक कहानी
शेर और गुलाम की प्रेरणादायक कहानी
बन्दर और कील की कहानी
moral stories in hindi for class 9, short moral stories for kids, Panchatantra short stories, Panchatantra tales, प्रेरक कहानिया, moral stories in hindi
तब मैना के पिता ने बाज से कहा की तुम अपनी नुकीली चोंच और पंजे अगर दे सकते हो तो मैं अपनी बेटी से तुम्हारी शादी करवा दूंगा, क्यूंकि मेरी बेटी तुम्हारे चोंच और पंजे से डरती है। चुकी बाज मैना से बहुत प्यार करता था, वो तुरंत ही राजी हो गया। जैसे ही बाज ने अपने पंजे और चोंच दिए वैसे ही मैना के पिता का उससे डर ख़तम हो गया और उससे खदेड़ कर दुसरे जंगल में भगा दिया।
कहानी से सीख- बुद्धि से बलशाली को भी जीता जा सकता है।
मैं आशा करता हूँ की आपको ये “moral stories in hindi for class 9” प्रेरक कहानी आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।
इस कहानी का सर्वाधिकार मेरे पास सुरक्छित है। इसे किसी भी प्रकार से कॉपी करना दंडनीय होगा।




80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like