ga('send', 'pageview');
Articles Hub

एक अनोखे दान की शानदार कहानी-motivational stories in hindi pdf download

हम एक से बढ़कर एक motivational जगत की Story प्रकाशित करते हैं। पेश है इसी कड़ी में आज हम “एक अनोखे दान की शानदार कहानी ”motivational stories in hindi pdf download प्रकाशित कर रहे हैं . आशा है आपको ये खबर पसंद आएगी.


एक अनोखे दान की शानदार कहानी
आजकल लोग दान सिर्फ दिखावे के लिए ही करते हैं, कुछ तो सिर्फ अपने स्टेट्स को मेंटेन करने के लिए दान करते हैं. जब से सोशल मिडिया आया है, तब से लोग सिर्फ डीपी और लाइक्स के लिए ही दान करते हैं, इस संसार में बहुत ही कम लोग हैं, जो सिर्फ गुप्तदान करते हैं.
रीमा की माँ गुजर गई थी, वो अपनी मां को शादी के बाद भी अपने पास रखती थी, क्योंकि उसका भाई शहर में ही रहता था और कभी कभार ही घर आता था, उसने वहीँ शादी भी कर ली थी. रीमा अपनी मां से बहुत प्यार करती थी, उसे अपनी मां को अकेले छोड़ना अच्छा नहीं लगा इसलिए वो अपनी मां को अपने साथ रख ली, रीमा और उसके पति दोनों ही नौकरी करते थे, इसलिए मां उसके बच्चों का ध्यान रखती थी.
जब उसकी मां गुजर गई, तो रीमा ने सोंचा की उनके नाम से किसी गरीब की मदद कर दिया करुँगी, जिससे उनको दुआ मिलेगी. रविवार का दिन था, रीमा अपनी सहेली के साथ, एक ओल्ड ऐज होम गई, वहां देखा कि बहुत भीड़ है, लोग बुजुर्गों की मदद करते और उनके साथ फोटो सेल्फी लेते और उसे सोशल मिडिया में डाल ते, रीमा ने अपनी कामों से सुना कि कोई कह रहा था कि मुझे एक फोटो पर 200 लाइक्स आये तो कोई कह रह था कि पिछले हफ्ते उसकी एक फोटो पर 300 लाइक्स आये. तभी उस ओल्ड एज होम की मेनेजर आई और रीमा से बोली मैडम आज थोड़ा टाइम लगेगा, रविवार को यहाँ ज्यादा ही भीड़ लगती है.
रीमा के पास ज्यादा टाइम नहीं था, इसलिए वो दोनों वहां से चले गए, रस्ते में उसे एक बूढी औरत मिली, जो ठीक से चल भी नही पा रही थी. रीमा से सोंचा की इसकी मदद कर दिया जाये, जैसे ही रीमा ने उस बुढ़िया को पैसे देने के लिए हाँथ आंगे बढ़ाया, वैसे ही बुढ़िया ने पैसे लेने से इनकार कर दिया, उस बुढ़िया ने बोला कि बेटी अबिह मेरे हाँथ पैर चलते हैं, मैं मेहनत कर के कमाती खाती हूँ, अगर तुम्हें मदद ही करना है तो बगल वाली गली में एक घर है, उसकी मदद कर दो, उसकी कोई भी मदद नहीं करता.


रीमा ढूंढते- ढूंढते उस घर तक पहुँच गई. वहां जाते ते देखा कि वहां एक बहुत ही बूढी औरत बिस्तर पर पड़ी है, जिसको तेज़ बुखार है, उसकी मदद के लिए वहां कोई भी नहीं था. आस पास वालों के बताया कि उसका एक बेटा था, जो शहर में रहता है, तीन साल हो गए वो अभी तक नहीं आया.
रीमा ने तुरंत डॉक्टर को बुलाया और उसका इलाज करवाया, रीमा से उस बुढ़िया की हालत देखी नही गई और उसने उस बुढ़िया की मदद करने का फैसला कर लिया, रीमा ने एक बाई लगा दी जो उसके घर की साफ सफाई करदे और उसके लिए खाना पका दें, उसकी देख रेख कर दे. रीमा समय समय पर उससे मिलने भी आती थी. कुछ ही महीनों में वो बुढ़िया ठीक हो गई. रीमा का कहना था, लोग सिर्फ अपने दिल को खुश करने के लिए दान करते हैं, न कि गरीबों के दिल की ख़ुशी के लिए.
और भी प्रेरणादायक कहानियां पढ़ना ना भूलें==>
चालक भेड़िये और खरगोश की प्रेरक कहानी
एक गरीब लड़के की प्रेरक कहानी
चिड़ियाँ की प्रेरणादायक कहानी
पंडित और अमीर आदमी

मैं आशा करता हूँ की आपको ये खबर आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like