Articles Hub

New Hindi three Motivational stories at one place

1.
(अपनी एनर्जी मत बर्बाद करे)
New Hindi three Motivational  stories at one place,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
प्राचीन ग्रीस में, सुकरात नाम के बहुत ही उच्च ज्ञान रखने वाले सम्माननीय दार्शनिक थे।
एक दिन सुकरात का कोई परिचित उनसे मिला और कहा, “आपको पता हैं मेने आपके दोस्त के बारे में क्या सुना हैं?
सुकरात ने जवाब दिया, “एक मिनट रुको जरा। इससे पहले की आप मेरे दोस्त के बारे में बात करे, में आपकी बात जो कहने आने हैं, उसका फ़िल्टर टेस्ट करना चाहता हूँ। यह मेरा ट्रिपल फ़िल्टर टेस्ट हैं।
पहला फ़िल्टर ‘सच’ का हैं। क्या आप पूरी तरह sure हो कि जो भी आप मुझे बताने वाले हैं वो बात पूरी तरह से सच हैं?
“जी नहीं, यह मेने कही से सुना था।” उस आदमी ने कहा।
सुकरात ने कहा, “अच्छा, आप नहीं जानते हैं कि यह सच हैं या नहीं। ठीक हैं मेरा दूसरा फ़िल्टर ‘अच्छा’ का हैं। क्या मेरे दोस्त के बारे में अच्छा बताने वाले हैं।
“नहीं, इसके विपरीत हैं।” आदमी ने कहा।
सुकरात ने आगे कहा, “अच्छा, आप मेरे दोस्त के बारे में बुरा कहना चाहते हैं, जबकि आप निश्चित नहीं हैं कि यह सत्य हैं।
ठीक हैं ,अभी तीसरा फ़िल्टर ‘उपयोगिता’ का बाकी हैं। क्या आप मेरे दोस्त के बारे में मुझे बताना चाहते हैं कि मेरे लिए उपयोगी हैं?
आदमी ने कहा, “नहीं वास्तव में उपयोगी नहीं हैं।
सुकरात ने कहा, “ठीक हैं, यदि आप मुझे जो बताना चाहते हैं वह न तो सत्य है, न ही अच्छा है, न ही उपयोगी है, तो मुझे यह क्यों बताना चाहते हैं?
अब आदमी ने मन में सोचा कि मेने पंगा ही गलत आदमी से ले लिया हैं, यहां से निकलने में ही भलाई हैं।

Moral
इस छोटी सी कहानी से बड़ी सी सिख ले सकते हैं कि फालतू की गपशप करना आपके टाइम और एनर्जी की बर्बादी हैं साथ ही उनकी भी जिन लोगो को आप ये बता रहे हो और जिनके बारे में आप बात कर रहे हो।
इसीलिए आप अपने मूल्यवान समय को अपने आपको निखारने में लगाए, न की गपशप में।

2.
(इंसान की कीमत)
New Hindi three Motivational  stories at one place,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
एक बार लोहे की दुकान में अपने पिता के साथ काम कर रहे एक बालक ने अचानक ही अपने पिता से पुछा
“पिताजी इस दुनिया में मनुष्य की क्या कीमत होती है?
पिताजी एक छोटे से बच्चे से ऐसा गंभीर सवाल सुन कर हैरान रह गये।
फिर वे बोले-“बेटे एक मनुष्य की कीमत आंकना बहुत मुश्किल है, वो तो अनमोल है।
बालक – क्या सभी उतने ही कीमती और महत्त्वपूर्ण हैं ?
पिताजी – हाँ बेटे।

और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
बदलाव की एक प्रेरक कहानी
चालक भेड़िये और खरगोश की प्रेरक कहानी
कोयल और मोर की प्रेरणादायक कहानी
बालक के कुछ पल्ले पड़ा नहीं, उसने फिर सवाल किया – तो फिर इस दुनिया मे कोई गरीब तो कोई अमीर क्यो है? किसी की कम इज्जत तो किसी की ज्यादा क्यो होती है?
सवाल सुनकर पिताजी कुछ देर तक शांत रहे और फिर बालक से स्टोर रूम में पड़ा एक लोहे का रॉड लाने को कहा।
रॉड लाते ही पिताजी ने पुछा – इसकी क्या कीमत होगी?
बालक – लगभग 300 रूपये।
पिताजी – अगर मै इसके बहुत से छोटे-छोटे कील बना दू, तो इसकी कीमत क्या हो जायेगी ?
बालक कुछ देर सोच कर बोला – तब तो ये और महंगा बिकेगा लगभग 1000 रूपये का।
पिताजी – अगर मै इस लोहे से घड़ी के बहुत सारे स्प्रिंग बना दूँ तो?
बालक कुछ देर सोचता रहा और फिर एकदम से उत्साहित होकर बोला ” तब तो इसकी कीमत बहुत ज्यादा हो जायेगी।
पिताजी उसे समझाते हुए बोले – “ठीक इसी तरह मनुष्य की कीमत इसमे नही है की अभी वो क्या है, बल्कि इसमे है कि वो अपने आप को क्या बना सकता है।
बालक अपने पिता की बात समझ चुका था।

Moral
हम अपने आपको मूल्यवान भी बना सकते हैं या फिर नीचे भी गिरा सकते हैं।
तो आज से जो आपको बनना हैं उसकी तैयारी शुरू कर दो।

3.
(आज ही क्यों नहीं ?)
New Hindi three Motivational  stories at one place,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
एक बार की बात हैं, एक शिष्य अपने गुरु का बहुत आदर सम्मान करता था। गुरु भी अपने शिष्य से बहुत स्नेह करते थे, लेकिन वह शिष्य अपने पढाई के प्रति आलसी था और हमेशा टालमटोल करता था। सदा काम से दूर भागने की कोशिश करता था।
अब उसके गुरूजी टेंशन में रहने लगे की उसका शिष्य जीवन की लड़ाई में हार न जाये।
आलस्य में किसी भी आदमी की निकम्मा बनाने की पूरी ताकत होती है। ऐसा व्यक्ति बिना मेहनत के भी फल पाने की इच्छा रखता हैं। वह शीघ्र निर्णय नहीं ले पता हैं और किसी भी काम को ठीक से नहीं कर पाता हैं
इसीलिए गुरूजी ने एक आईडिया सोचा, उन्होंने एक दिन एक काले पत्थर का एक टुकडा उनके शिष्य के हाथ में देते हुए कहा –
“मैं तुम्हें यह जादुई पत्थर का टुकडा, दो दिन के लिए दे कर,कही दूसरे गााँव जा रहा हूँ । इस टुकड़े को किसी भी लोहे की वस्तु से स्पर्श करोगे,वह लोहा सोने में बदल जायेगा। पर याद रहे की दूसरे दिन सूर्यास्त के बाद इसे तुमसे वापस ले लूंगा।
शिष्य इस सुअवसर को पाकर बडा खुश हुआ, लेकिन आलसी होने के कारन उसने पहला दिन यह सोचने में निकल दिया की उसके पास ढेर सारा सोना हो जायेगा, तब वह कितना खुश, समृद्धि से भरपूर होकर जीवन बिताएगा, उसके खूब सारे नौकर चाकर होंगे और मस्त लाइफ सेट हो जाएगी।
फिर वो जब दुसरे दिन जागा, तो उसे उसे याद था की आज दूसरा और अंतिम दिन हैं, सोना बनाने के लिए।
उसने ठान लिया की इस पत्थर का पूरा इस्तेमाल करेगा। उसने सोचा की वह बाजार से बड़े बड़े लोहे के बरतन लाएगा और उन सबको सोने में बदल देगा। दिन बीतता गया, उसने सोचने में बिलकुल भी आलस नहीं किया, वह इसी सोच में बैठा रहा की अभी तो बहुत समय है, कभी भी बाज़ार जाकर सामान ले आएगा।
उसने सोचा की अब तो दोपहर का भोजन करने करने के बाद ही बज़्ज़ार जायेगा, पर के बाद उसे विश्राम करने की आदत थी ,तो उसने थोड़ा सा बाजार जाने का कष्ट ना उठाकर, आलस्य गुलाम बनकर मस्त घोड़े बेचकर सो गया और जब वो उठा तो दिन अस्त होने को ही था।
अब वह जल्दी-जल्दी बाज़ार की ओर भागने लगा, पर रास्ते में ही उसे गुरूजी मिल गये।
उनको देखते ही वह उनके चरणों पर गिरकर, उस जादुई पत्थर को एक दिन ओर अपने पास रखने के लिए याचना करने लगा लेकिंन गुरूजी नहीं माने। शिष्य के हसीन सपने चूर-चूर हो गए।
पर इस घटना से उसे बहुत बड़ी सिख मिल चुकी थी। उसे अपने आलस्य पर पछतावा होने लगा, वह समझ गया की आलस्य उसके जीवन के लिए अभिशाप हैं और उसने कसम ली की अब वो कभी भी काम से जी नहीं चुराएगा और एक कर्मठ, सजग और सक्रिय व्यक्ति बन के दिखायेगा।
मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-New Hindi three Motivational stories at one place,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like