ga('send', 'pageview');
Articles Hub

क्या वह फौजी था-new horror story 2018

new horror story 2018

new horror story 2018, latest horror story in hindi, short spirit story in hindi,best horror story in hindi language, scary story in hindi language, ghost in hindi, भूत की कहानी
हम एक से बढ़कर एक horror kahaaniyan प्रकाशित करते हैं। पेश है इसी कड़ी में आज हम “क्या वह फौजी था”new horror story 2018 प्रकाशित कर रहे हैं . आशा है आपको ये Kahaani पसंद आएगी
क्या वह फौजी था……
पंकज को बचपन से अपने देश की सेवा करने का जूनून सवार था, इसलिए बड़ा होने के बाद उसने देश की सेवा करने के लिए सेना में भर्ती हो गया. वह हमेशा दुश्मनो के छक्के छुड़ाने के लिए बेताब रहता था, इसलिए उसने सेना में भर्ती होने के बाद अच्छे से ट्रेनिंग लिया, वह ट्रेनिंग में अव्वल आया, और वह ट्रेनिंग पूरा करने के बाद देश की सीमा पर चला गया, जहाँ उसने कई घुसपैठि को मार गिराया और आंतकवादी को घुसने तक नहीं दिया, वहां जहाँ भी काम किया बहुत ही निष्ठां से काम किया जिसकी वजह से उसने दुश्मनो की कई गोलिया भी खायी लेकिन वह हमेशा डंट कर मुकाबला किया उसने कभी भी अपनी जान की परवाह किये बिना हमेशा दुश्मनो को पानी पिलाता रहा जिसकी वजह से सरकार ने उसे मैडल भी दिया, अंत में एक आंतकवादी को मारने एक क्रम में उसे गोली लगी और डॉक्टर ने उसे आराम करने की सलाह दी. वह सेना से रिटायर्ड हो गया और अपने गाँव वापस लौट आया, जब तक वह सेना में रहा सब उसकी इज्जत करते रहे, अब जब वह गाँव में ही रहने लगा तो उसकी इज्जत कम होती गयी, खैर उसका उसे कभी अफ़सोस भी नहीं हुआ, अब वह खेती बारी करने लगा, एक दिन जब वह अपने घर की सफाई कर रहा था, तो उसे जमीन के कुछ कागजात मिले जिससे उसे पता चला की उसके पास बहुत सारे जमीन हैं, वह जब अपनी जमीन पर गया तो पता चला की वह उसकी जमीन नहीं, बल्कि गाँव के मुखिया की जमीन है, उसने पंचायत बुलाया और कागजात दिखाए, इस पर मुखिया ने कहा की यह नकली कागजात है और पंकज को बेइज्जत किया, पंकज को आस्चर्य हुआ की जिस धरती के लिए उसने अपनी जान की कभी परवाह नहीं की, गोलियां खायी उसी धरती के लिए वह बेमानी करेगा, जबकि वह जमीन उसके पूर्वजो की है,
new horror story 2018, latest horror story in hindi, short spirit story in hindi,best horror story in hindi language, scary story in hindi language, ghost in hindi, भूत की कहानी
और भी भूत की कहानियां horror stories पढ़ना ना भूलें==>
एक प्रेतात्मा का कहर
खुनी चुड़ैल और गर्ल्स हॉस्टल का आतंक
खुनी गुड़िया का कहर
खुनी हवेली का रहस्य

उसने ठान लिया की वह अपनी जमीन ले कर दम लेगा, यह बात मुखिया को भी पता चल गया उसने अपने चमचो के साथ रात को ही पंकज को मार डालने का प्लान बनाया और पंकज को मारने उसके घर गया, पंकज भी फौजी ठहरा इतनी जल्दी भला हिम्मत कैसे हारता, रात भर वह लड़ता रहा आखिर कार मुखिया के चमचे काफी तदाद में थे जिसकी वजह से पंकज मारा गया, और मुखिया ने मरा हुआ पंकज को उसके घर समेत जला दिया. अगले दिन पुलिस आयी और एक्सीडेंट की घटना बता कर केस को बंद कर दिया, इसके लिए मुखिया ने पुलिस को पैसे दिए. पंकज की आत्मा यह सब देख कर रो दी, वह अब बदला लेना चाह रहा था, लेकिन वह क्या कर सकता था. पंकज देश की सेवा करने का जूनून में शादी भी नहीं किया, इसलिए उसका अपना कोई नहीं था, हलाकि उसके छोटे भाई का परिवार था लेकिन वह भी शहर में रहा करते थे.तभी एक दिन उसका भतीजा गाँव आया, जब वह जला हुआ घर देखा तो उसे बहुत अफ़सोस हुआ, उसने घर को फिर से बनवाया और कुछ दिन रहने लगा, तभी रात को अचानक उसका भतीजा पसीना पसीना हो गया, उसकी समझ में नहीं आ रहा था की उसके साथ क्या हो रहा है, उसके अंदर अचानक इतनी ताकत कैसे आ गयी, और उसके दिल में इतने ख्याल कैसे आने लगा, उसने रात को साफ़ साफ़ अपने चाचा की मौत की घटना देखी. यह घटना जब उसने गाँव वालो को बताया तो कोई विश्वास नहीं किया फिर उसने पुलिस को बताया तो पुलिस ने उसे धमका कर भगा दिया, अब रात को अचानक से पंकज का भतीजा उठा और पुलिस के घर गया, और पुलिस को जगाया, भतीजा का आवाज भारी था, वह आवाज गूंज रहा था, वह पंकज की आवाज थी, जिसे सुन कर पुलिस डर गया भतीजा ने पहले तो उसका फर्ज याद दिलाया, फिर उसकी गलती के लिए उसे मार दिया और घर को जला दिया, ठीक उसी प्रकार जैसे पंकज के साथ हुआ, अब पंकज अपने भतीजा के शरीर में प्रवेश कर अपने साथ हुए अन्याय का बदला ले रहा था, हर रात कोई ना कोई मरता और उसका घर जलता, जो जो उस रात शामिल था सभी की मौत हादसा बन कर रह गयी थी, इस बात से मुखिया डर गया उसकी समझ में नहीं आ रहा था की भला कौन है जो उसके चमचे को एक एक कर मार रहा है, अंत में सिर्फ मुखिया बचा, मुखिया को भनक लग गयी की पंकज का भतीजा यह सब कर रहा है, वह रात को अपने आदमियों के साथ घर में उसके आने का इन्तजार कर रहा था, जब उसका भतीजा आया तो मुखिया और उसके आदमी भतीजा को घायल कर दिए, और उसका मजाक उड़ाने लगे, तभी पंकज की आत्मा भतीजा के शरीर को छोड़ मुखिया की बीवी के अंदर चली गयी और हस्ते हुए कहा की मैं तुम्हारी मौत हूँ जिस तरह तुमने मुझे मारा मैं भी तुम्हे मारूंगा, यह सुन कर मुखिया डर गया क्योँकि उसकी बीवी अजीब तरह से बात कर रही थी, मुखिया ने अपनी जान बचाने के लिए अपनी औरत पर हैतयार चला दिया जिससे उसकी बीबी वहीँ मर गयी फिर पंकज की आत्मा उसके बेटे में घुस गयी और मुखिया अपनी बेटे को भी मार दिया फिर वह उसकी बेटी के शरीर में घुस गया मुखिया ने अपनी बेटी को मार दिया, और ऐसे में सुबह हो गयी, और पूरा का पूरा घर खून से सन गया, सुबह जब पुलिस आयी तो उसने देखा की मुखिया ने अपनी बेटी बेटे और पत्नी को जान से मार दिया, जबकि पंकज का भतीजा घायल पड़ा हुआ है, मुखिया को आपने ही परिवार को मारने के जुर्म में आ जीवन कारावास हुआ, वह किसी को कुछ नहीं कह पाया, आज भी मुखिया जेल में है, इस तरह एक फौजी ने अपना बदला लिया………..

मैं आशा करता हूँ की आपको ये Kahaani आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।
Tags-new horror story 2018, latest horror story in hindi, short spirit story in hindi,best horror story in hindi language, scary story in hindi language, ghost in hindi, भूत की कहानी

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like