Articles Hub

जब लोकल ट्रेन में मेडीकल स्टूडेंट से हुआ प्यार-novel of love story in hindi

हम एक से बढ़कर एक प्रेम कहानियां प्रकाशित करते हैं। पेश है इसी कड़ी में आज हम “होगी प्यार की जीत” love story in hindi pdf प्रकाशित कर रहे हैं . आशा है आपको ये कहानी पसंद आएगी.

मैं बीकॉम थर्ड इयर में था, दोस्तों के साथ घुमा करता था, हमारा कालेज मुंबई के वाशी में था और मैं दादर में रहता था, रोज लोकल ट्रेन से हम सभी दोस्त कालेज जाते और वहां कुछ लाक्टेचेर अटेंड करते और फिर घूमते शाम को घर आ जाते. हमारा एक ग्रुप भी था, जिसमें लड़के और लड़कियां भी थी. हम लोग खूब मस्ती किया करते थे. लोकल ट्रेन के गेट में खड़े हो कर सफ़र करते थे. इसी लोकल ट्रेन में सफ़र करने के दौरान मुझे मेरा प्यार मिल गया, वैसे तो मैं रोज कितनी लड़कियों से मिलता था, लेकिन उसकी बात अलग था, मुझे तो उसका नाम भी नहीं पता था.

दरअसल, एक दिन हम रोज की तरह कालेज जाने के लिए लोकल ट्रेन में सफ़र कर रहे थे, तभी मेरी नजर सामने से जा रही एक दूसरी लोकल ट्रेन पर पड़ी, जिसमें कई सारी लड़कियां खाड़ी थी, उन्ही के बीच में वो भी खाड़ी थी, डॉक्टर वाला कोट पहना हुआ था उसने, पहली बार जब हमारी और उसकी नजर से नजर मिली, हमें तो प्यार हो गया. अब रोज हम उसी को देखते, वो भी देख कर मुस्कुरा देती, अब हमने अपने सारे दोस्तों को उसके बारे में जानने और उसके बारे में सारी डिटेल्स लाने के लिए बोल दिया, सब काम पर लग गये. दो दिन के अन्दर उस लड़की कई सारी डिटेल्स मेरे पास आ गई, उसका नाम पूनम था और वो रेलवे कालोनी में रहती थी, वासी के मेडीकल कालेज में वो पढ़ रही थी.

अब तो हम रोज रेलवे कालोनी के चक्कर काटने लगे, तब पता चला की उसका बाप बड़ा खडूस है. रोज-रोज सिर्फ देखने से काम नहीं बनने वाला था, एक दिन मैं पहले से ही वाशी स्टेशन पहुँच गया और उसका इन्तेजार करने लगा, जब वो मेरे सामने आई और शर्माने लगी, नीचे मुंडी कर के जाने लगी, तभी मैंने उसका हाँथ पकड लिया और उसे साइड में ले गया. मैंने उसे एक झटके में अपने दिल की सारी बात बता दी. वो बिना कुछ बोले शरमाते हुए वहां से चली गई. अगले दिन फिर मैंने उसका वहीँ इन्तेजार करने लगा, इस बार जब वो आई तो चुपचाप से मेरे हाँथ में एक कागज का टुकड़ा दे दिया, जिसमें उसका मोबाइल नंबर लिखा था, साथ में इ लव यु भी लिखा था.

इसके बाद तो हमारी लव स्टोरी शुरू हो गई, अब तो हम लोग कालेज बंक कर के साथ में घुमने भी लगे, रेस्तरांत में लंच, मरीन ड्राइव में शाम को स्नाक्स. मुझे ऐसा लग रहा था, जैसे मेरी पूरी लाइफ सेट हो गई हो, अब एक दिन हमें कोर्ट में जा कर चुप चाप शादी भी कर ली और वापस अपने-अपने घर चले गए, एसा कई दिनों तक चलता रहा, लेकिन एक दिन सब को बताना पड़ा, शुरू में दिक्कत हुई लेकन आखिर में सब को हमारे प्यार से सामने झुकना ही पड़ा.
और भी रोमांटिक प्रेम कहानियां “the love story in hindi” पढ़ना ना भूलें=>
क्या ये प्यार है
एक सच्चे प्यार की कहानी
कुछ इस कदर दिल की कशिश
प्यार में सब कुछ जायज है.
मैं आशा करता हूँ की आपको ये “love story in hindi pdf” अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-novel of love story in hindi, true love story in hindi in short, true sad love story in hindi language, hindi love story in short love, love story novel in hindi language, romantic love stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like
moviexw | munir khan | Sarosh khan | where can i get stamp | Nashir shafi mir