ga('send', 'pageview');
Articles Hub

रसूख-Rasuk a new type of love story in hindi language

रसूख.
Rasuk a new type of love story in hindi language,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

कन्हैया के पिता जी दिल्ली यूनिवर्सिटी में काम करते थे, चूँकि उनका पोस्ट कुलपति के सहायक का था, इसलिए कोई भी नया कुलपति आता उन्ही से पूछता, इसलिए उनका यूनिवर्सिटी में में अलग ही रसूख था, उन्हें यूनिवर्सिटी के कैंपस में ही आवास मिला हुआ था, बहुत साल से वो वहीँ रह गए थे, इसलिए भी उनका एक अलग पहचान और रसूख बन गया था, यूनिवर्सिटी और उसके आस पास के एरिया में उनका वर्चस्व था, सभी उन्हें जानते थे, पुराने स्टाफ होने की वजह से भी उनको इज्जत मिलती थी, और कुलपति के करीबी तो थे ही, कन्हैया अपने पापा के साथ ही सरकारी आवास में रहता था, वह पटना यूनिवर्सिटी का ही स्टूडेंट था, वह बचपन से दौड़ने में काफी तेज था, उसके पापा रोज उसे ग्राउंड में दौड़ने को कहते थे, चूँकि कन्हैया पढ़ने में तेज नहीं था, इसलिए उसके पापा चाहते थे की स्पोर्ट कोटा से ही उसकी कहीं जॉब लग जाए, उनका रसूख और स्पोर्ट कोटा दोनों ही कन्हैया के लिए काम कर गया और उसे भी पढ़ाई पूरी होने के बाद वहीँ नौकरी भी मिल गयी, कन्हैया खुश था, जहाँ वह पढता था वहीँ उसे जॉब मिल गयी थी, पढ़ाई के दौरान ही उसके साथ पढ़ने वाली एक लड़की जिसका नाम सुषमा था, वह कन्हैया के करीब आ गयी, दोनों एक दूसरे को पसंद करते थे, और दोनों ने शादी करने की भी सोच रखी थी, लेकिन सुषमा चाहती थी की पहले कन्हैया कोई जॉब कर ले, क्योँकि अगर उन दोनों के घर वाले शादी के लिए नहीं माने तो परिवार चलाने के लिए पैसा तो चाहिए था, इसलिए सुषमा हमेशा कन्हैया को जॉब करने के लिए कहती थी, लेकिन कन्हैया को पढ़ने में मन नहीं लगता था, इसलिए वह पापा के भोरेसे ही था, देखते देखते समय बीत गया और सुषमा के पिता ने सुषमा की शादी ठीक कर दी और सुषमा कन्हैया की जिंदगी से चली गयी, इधर कन्हैया भी बिना अफ़सोस किये हुए अपनी जिंदगी में आगे बढ़ गया,यूनिवर्सिटी में जॉब लगने के बाद, उसकी जिंदगी में राखी नाम की लड़की आयी, राखी सुन्दर थी, और कन्हैया को देखते ही प्यार हो गया था, राखी भी दिल ही दिल में कन्हैया को पसंद करने लगी थी, कन्हैया ने बिना देर किये राखी के बारे में अपने पापा से बात की, उसके पापा ने कहा, राखी के पापा को कहो, आ कर मुझसे मिले, कन्हैया ने राखी के पापा से बात की, राखी के पापा, कन्हैया के पापा से बात की, इसी बीच कन्हैया और राखी करीब आ गए, उन्हें लग रहा था की दोनों की शादी तय मानी जाएगी, कन्हैया शाम में ऑफिस से जल्दी निकल जाता और राखी को ले कर घूमने निकल जाता,
और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
बदलाव की एक प्रेरक कहानी
चालक भेड़िये और खरगोश की प्रेरक कहानी
कोयल और मोर की प्रेरणादायक कहानी

Rasuk a new type of love story in hindi language,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

दोनों बहुत खुश थे, दोनों को जब भी समय मिलता घूमने चले जाते, दोनों लगातार एक दूसरे से बात किया करते थे, यह सिलसिला तीन-चार महीने चला, फिर जब शादी की लें दें की बात हुई तो राखी के पापा ने कन्हैया के पापा की डिमांड पूरी करने में असमर्थता जताई, जिससे दोनों के परिवार में भी दुरी आ गयी और एक बार फिर कन्हैया की जिंदगी से राखी चली गयी, अब कन्हैया को समझ में नहीं आ रहा था की वह क्या करे? कन्हैया के पापा को यह समझ आ गया की कन्हैया, की जल्द जल्द से शादी करवा दी जाए, इसलिए वह चार -पांच जगह अपने बेटे की शादी करने की बात कह दी, अब एक से एक अच्छा रिश्ता आने लगा, इसी बीच रानी का रिश्ता आया,रानी देखने में बहुत सुन्दर थी और पढ़ने में भी काफी अच्छी थी, लेकिन कन्हैया रानी के ज्यादा करीब नहीं जा रहा था, वो कहते हैं ना, ” दूध का जला छाछ भी फूँक फूँक कर पीता है” इसलिए वह रानी के करीब नहीं जा रहा था, लेकिन दोनों के पीता के बीच शादी और लें दें को ले कर सहमति बन गयी, और जल्द से जल्द दोनों की सगाई भी हो गयी, जिसके बाद दोनों एक साथ घूमने लगे और रिश्ते को मजबूत बनाने लगे, दोनों को एक साथ घूमते हुए कुछ लोगो ने देख लिया, यह बात कन्हैया के पिता को भी पता चली, उन्हें लगा की उनका कायम किया हुआ रसूख कहीं मिटटी में ना मिल जाए इसलिए उन्होंने दोनों की शादी जल्दी से करवा दिया , इस तरह आखिर कार कन्हैया को अपनी जीवन संगिनी मिल ही गयी……

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-Rasuk a new type of love story in hindi language,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

loading...
You might also like