ga('send', 'pageview');
Articles Hub

रिश्ता-Realtion a new motivational Love story in hindi language

रिश्ता…
Realtion a new motivational Love story in hindi language, true love story in hindi in short, true sad love story in hindi language, hindi love story in short love, love story novel in hindi language, romantic love stories in hindi language
इंदौर का रहने वाला संजीव ने इंटर तक की पढ़ाई इंदौर से ही की,आगे की पढ़ाई के लिए वह दिल्ली चला गया, और वहीँ रह कर आगे की पढ़ाई की, फिर पढ़ाई पूरी करने के बाद वह वही एक कॉलेज में पढ़ाने भी लगा, साथ ही साथ अपना इंस्टिट्यूट भी चलाता था,जिससे उसकी अच्छी आमदनी हो जाया करती थी, दिल्ली में ही उसने एक फ्लैट भी ले लिया था,इसलिए वह पैसा जमा कर लिया था, उसकी शादी की उम्र होने लगी थी लेकिन मनलायक लड़की मिल नही रही थी, ये जरूर था की कॉलेज के दिनों में उसे एक लड़की पसंद थी लेकिन उससे शादी के लिए संजीव के माता-पिता तैयार नहीं हुए तो संजीव ने लड़की देखने की जिम्मेदारी भी अपने माता-पिता को ही दे दिया, माता पिता ने उसके लिए कुछ लड़की पसंद भी किये लेकिन संजीव को पसंद नहीं आ रही थी, फिर एक दिन अचानक उसके माता पिता ने एक लड़की का तस्वीर भेजा, लड़की सुन्दर थी, इसलिए संजीव शादी के लिए तैयार हो गया, फिर शादी की बात हुई और शादी तय हो गयी, तय दिन संजीव बारात ले कर लड़की के यहाँ पहुँच गया, सब कुछ अच्छे से चल रहा था, जयमाला के समय स्टेज पर संजीव और उसकी होने वाली दुल्हन दोनों पहुंचे, तभी स्टेज के निचे हंगामा होने लगा, जिसे देख सभी बाराती चौंक गए और संजीव भी चौंक गया आखिर यह क्या हो रहा है? पता चला की एक लड़का हंगामा कर रहा है, जो लड़की को अपना प्यार बता रहा है, वह कह रहा था की वह लड़की से प्यार करता है, और लड़की उसे छोड़ कर किसी और से शादी कैसे कर सकती है? संजीव ने लड़की की तरफ देखा ? लड़की ने कहा, मैं इस लड़के को नहीं जानती, यह कौन है ? लेकिन कुछ लोगो ने दबी जुबान से कहा की लड़का इसी मोहल्ले का है, हो सकता है दोनों में प्यार हो,
और भी रोमांटिक प्रेम कहानियां “the love story in hindi” पढ़ना ना भूलें=>
सिर्फ तुम-Only You a new short love story in hindi language
जिम्मेदारी-Responsibilities a new short love story from the street of bhopal
मायूस-innocent a new short love story of one sided love in hindi language

लेकिन लड़की तो साफ़ साफ़ मना कर रही थी, अब तो संजीव को यह रिश्ता ना ही उगलते बन रहा था ना ही निगलते, क्योँकि लड़की उसे पसंद थी लेकिन कोई लड़का यह कह रहा था की वह उससे प्यार करता है, बारात भी आ गयी थी , अब क्या किया जाए, संजीव अपने पिता की तरफ देखा संजीव के पिता ने कहा की अब बारात ले जाना सही नहीं होगा, शादी कर लो, यह सुन कर संजीव ने शादी कर ली, शादी के इतने दिन गुजर जाने के बाद, अब सब कुछ ठीक है,लेकिन आज भी शादी का दिन जब संजीव को याद आता है तो उस लड़के का चेहरा सामने आ जाता है, लेकिन उसकी पत्नी ने उस लड़के के बारे में कभी बात नहीं की तो वह दिलको जरूर समझा लेता है की हो सकता है यह एक तरफा प्यार हो या सिर्फ वह लडकही रिश्ता रखा हो उसकी पत्नी नहीं………

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-Realtion a new motivational Love story in hindi language, true love story in hindi in short, true sad love story in hindi language, hindi love story in short love, love story novel in hindi language, romantic love stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like