ga('send', 'pageview');
Articles Hub

प्रेतात्मा का प्रतिशोध-Revenge of a ghost a new horror story in hindi language

Revenge of a ghost a new horror story in hindi language,ghost story in hindi language,ghost story in hindi pdf,ghost story in hindi with moral,ghost story in hindi online,ghost story novel in hindi,true love ghost story in hindi,ghost story in hindi new
प्रेतात्मा का प्रतिशोध – बात ब्रिटिश शासन काल की है। उस समय मिस्टर क्रीज अँगरेज़ डिप्टी कलेक्टर थे। उन्होंने अपने भारत प्रवास के समय के कुछ संस्मरण प्रकाशित किये हैं। उनके किताब का एक अध्याय भटकती आत्माओं पर है। घटना जनवरी 1937 की है। भारतीय अधिकारी श्री रामास्वामी स्थान्तरित होकर शिमला आये थे। उन्हें अपने बंगले में प्रथम रात्रि को ही एक महिला की छाया दिखाई दी। साथ ही घंटो की अव्वाज़ सुनाई दी। भयभीत होकर उन्होंने दूसरे ही दिन उस बंगले को छोड़ दिया। उसके बाद एक मुस्लिम अधिकारी आये उन्हें भी एक सफेदपोश महिला दिखाई दिया उन्हें जहांगीरी घंटे के साथ महिला की सिसकियाँ भी स्पस्ट रूप में सुनाई दी। वे बंगला छोड़कर भागे और इसकी सूचना पुलिस को दी। रात में पुलिस इंस्पेक्टर ने उस महिला को देखा उन्होंने अपने रिवाल्वर से पांच -चाह गोलियां भी चलाई परन्तु इसका कोई प्रभाव नहीं पड़ा। वही घंटे की अव्वाज़ ,सिसकियाँ फिर ठहाके मारने की आवाज़े इंस्पेक्टर के तो होश -हवास ही उड़ गए। वे सिपाहियों के साथ भाग खड़े हुवे। प्रेतात्मा की इस घटना को मज़ाक का स्वरुप देते हुवे अंग्रेजी सरकार ने एक अनुभवी इंस्पेक्टर आगा के नेतृत्व में एक पुलिस दस्ता भेजा। बंगले के चारों तरफ पुलिस को तैनात कर दिया गया तथा वे स्वयं डाइनिंग रूम में एक कुर्सी पर बैठ गए। तभी एक बिचित्र बिल्ली उछल -कूद करते आई और फिर गायब- हो गई। वे सचेत हो गए उन्होंने रिवाल्वर संभाला ही था कि उस छाया ने कहा -‘आप एक नेक तथा चरित्रवान अधिकारी हैं। आप मुझ अबला पर क्रोध क्यों करते हैं ?वैसे आपका रिवाल्वर मेरा कुछ बिगड़ नहीं सकता। इंस्पेक्टर ने बड़ी नम्रता से पूछा -‘आप कौन है ? क्या आप अपना परिचय देंगी ? छाया ने कहा -मैं एक पीड़ित औरत हूँ क्या आप मेरी पीड़ा दूर कर सकेंगे ? इंस्पेक्टर ने आश्वासन दिया तब उस छाया ने कहा -‘मैं एक पहाड़ी लड़की थी शादी से पहले मेरा नाम आवेरी था। मेरी माँ एक वेश्या का धंधा करती थी। मेरी सुंदरता देखकर मिस्टर आयजीक मेरी तरफ आकृष्ट होने लगे बाद में माँ के विरोध के वावजूद मैंने उनसे कोर्ट मैरिज कर ली। यह बंगला उन्ही का है। मेरी माँ मुझे वेश्या बनाना चाहती थी। पर मैं उस पेशे में नहीं जाना चाहती थी। कुछ दिनों बाद मई गर्भवती हो गई। माँ ने आइजिक से संबंध -विच्छेद करने करने का दवाब डाला मैंने बात नहीं मानी। उन्होंने झूठा तार दिखाकर कहाकि उन्हें जाना है क्योंकि उनकी पिता की मृत्यु हो और नहीं जाने से उन्हें सारी सम्पति से बेदखल होना पडेगा। दो महीने बाद वे लौट आये। एक दिन ाइजिक ने प्रेम प्रदर्शित करते हुवे चुम्बन लेने के बहाने मेरे गले में रूमाल फंसाकर मेरी ह्त्या कर दी। छाया ने कहा – मेरी लाश पीछे वाली कमरे के बीचो -बीच गड़ी है। पलस्तर उखाड़ने के बाद मेरे शव के अवशिस्ट भाग मिल जायेंगे। आप उसपर मुकदमा चलाकर उसे प्राण -दंड की सज़ा दिलवा दे। मैं आपकी हर संभव सहायता करुँगी। इतना कहकर छाया गायब हो गई। फ़ौरन उस कमरे की खुदाई की गई। मजिस्ट्रेट के सामने खुदाई करने पर एक महिला का शव ,एक रूमाल तथा अन्य सामान मिले। मुक़दमे में ाइजिक के वकील ने दलील राखी कि यदि यह बयान ावेरी के हैं तो इसपर उसके हस्ताक्षेर क्यों नहीं हैं ? इंस्पेक्टर ने अदालत से समय माँगा और सारी बात छाया को बताई। आगा साहब ,आप कागज़ टेबल पर रखे मई हस्ताक्षेर किये देती हूँ। उसने बयां पर दस्तख़त कर दिए। वकील तथा जज सभी आस्चर्यचकित थे क्योंकि ठीक वही दस्तख़त जज की फाइल में बंद आवेरी के बयानों में भी थे। और भी डरावनी कहानियां पढ़ना ना भूलें=>
जंगल का रहस्य-Mystery of a dangerous jungle a new short story in hindi
जंगल का रहस्य-Mystery of a dangerous jungle a new short story in hindi
भुतहा घर-Hunted House a new short hindi horror and scary story
Revenge of a ghost a new horror story in hindi language,ghost story in hindi language,ghost story in hindi pdf,ghost story in hindi with moral,ghost story in hindi online,ghost story novel in hindi,true love ghost story in hindi,ghost story in hindi new

बचाव पक्ष के वकील के आग्रह परकहा गया कि अगर वह अपना हस्ताक्षर कर सकती है तब कोर्ट में आकर बयान तथा सबूत दे। तब आवै ने ाइजिक के पिता का तार और कोर्टमेर्रिज के कागजात के बारे में बताया की कहाँ रखा है। उसने यह भी बताया कि उसके यानी आइजिक के पिता की मृत्यु हो चुकी है उसने झूठा तार उससे पिंड छुड़ाने के लिए मंगवाया था। आइजिक ना तो यह सिद्ध कर सका कि उसने आवेरी को तलाक दिया था या वह कहाँ है। उसने अंततः अपना अपराध स्वीकार कर लिया और उसे फांसी की सज़ा सूना दी गई। जिस दिन यह फैसला हुवा स्वप्न में ावेरी ने आगा को धन्यवाद दिया उसने कहा कि उसकी आत्मा को पूर्ण शान्ति मिल गई है और इस छाया शरीर से वह मुक्त हो रही है। वह इस एहसान का बदला तो नहीं चुका सकती पर इस बैडरूम के पीछे वाली खिड़की के नीचे एक बक्सा गडा है उसकी इच्छा है कि वह इसे खोदकर निकाल ले तथा अपनी पत्नी को हार्दिक भेंटस्वरूप दे दे। खुदाई करने पर एक बक्सा निकला जिसमे लगभग चालीस हज़ार के आभूषण मिले। उन्होंने इसे ईमान्दारीके साथ सरकारी खजाने में जमा करवा दिया।

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-Revenge of a ghost a new horror story in hindi language,ghost story in hindi language,ghost story in hindi pdf,ghost story in hindi with moral,ghost story in hindi online,ghost story novel in hindi,true love ghost story in hindi,ghost story in hindi new

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like