Articles Hub

sad love story in hindi language true-मोहब्बत का अंत

sad love story in hindi language true

sad love story in hindi language true, short love story in hindi language, most romantic love story in hindi language, love story in hindi





देसिकहानियाँ में हम एक से बढ़कर एक प्रेम  कहानियां प्रकाशित करते हैं। पेश है इसी कड़ी में “मोहब्बत का अंत” sad love story in hindi language true आशा है,ये आपको पसंद आएगी।


लेखक- आदित्य
आदित्य बैंगलोर के एक कॉलेज से कंप्यूटर इंजीनियरिंग करके,वहीँ एक सॉफ्टवेयर कम्पनी में जॉब कर रहा था, अच्छी कम्पनी होने की वजह से सैलरी भी अच्छी मिल रही थी,वो बहुत खुश था.उसी कंपनी में उसके साथ स्वेता भी काम करती थी, शुरू शुरू में तो दोनों में सिर्फ हैल्लो हुआ करता था, फिर दोनों को एक साथ एक ही प्रोजेक्ट पर काम करने का मौका मिला, उसके बाद तो दोनों में किसी ना किसी बात को ले कर हमेशा झगड़ा होता रहता था , हर एक छोटी बात झगडे की वजह बन जाती थी और दोनों आपस में उलझ जाते थे, कभी कभी तो पता भी नहीं चलता था की दोनों किस बात को ले कर झगड़ रहे हैं , हमेशा दोनों को ये लगता था की मैं सही हूँ तो मैं सही हूँ, भला अलग अलग राय रखने वाले दोनों कैसे सही हो सकते थे, फिर क्या था दोनों झगड़ पड़ते थे. पहले तो उनदोनो के साथ काम करने वाले दोनों को समझते थे, फिर वो सभी भी उन दोनों को झगड़ा करने के लिए छोड़ देते थे, एक दिन आदित्य ने सोचा की क्यों ना इससे दूर रहू, दूर रहूँगा और बात भी नहीं करूँगा तो झगड़ा नहीं होगा, लेकिन किसी ना किसी वजह से दोनों में बात हो ही जाती थी,और झगड़ा शुरू हो जाती थी, छोटी-छोटी झगड़ा कब प्यार में बदल गयी, ये बात ना ही आदित्य को पता चली ना ही स्वेता को. एक दिन दोनों में काफी बहस हुआ, और उसी दौरान स्वेता ने आदित्य को “आई लव यू” बोल दिया, जिसे सुन कर आदित्य कुछ देर के लिए बिलकुल शांत हो गया और कुछ देर के बाद उसने भी अपने प्यार का इजहार कर दिया, फिर कुछ दिनों तक दोनों सिर्फ प्यार भरी बातें किया करते थे,लेकिन आदत से मजबूर भला दोनों कब तक प्यार भरी बातें कर सकते थे, सो एक दिन फिर से दोनों में बहस हो गया,और दोनों एक दूसरे से अलग अलग हो गए,लेकिन कुछ पलों के बाद ही उन दोनों को ये एहसास हो गया की वो दोनों एक दूसरे के बिना नहीं रह सकते थे, और दोनों फिर एक दूसरे से बात करने लगे,अब तो ऑफिस से छुट्टी होने के बाद स्वेता आदित्य के साथ उसके घर भी जाने लगी, धीरे-धीरे ऑफिस में ये बात फैलने लगी की दोनों बहुत जल्दी शादी करने वाले हैं, ये बात जब आदित्य ने अपने मम्मी-पापा को बताई तो पहले तो मना हो गया लेकिन फिर आदित्य ने दोनों को मना लिया, कुछ ऐसा ही हाल स्वेता के साथ भी हुआ,उसके मम्मी-पापा ने भी पहले मना कर दिया,लेकिन स्वेता के मनाने के बाद वो भी मान गए और इस तरह दोनों के शादी का रास्ता खुल चूका था, उन दोनों को ये एहसास हो गया था की वो दोनों एक दूसरे के बिना नहीं रह सकते,कब झगडे ने प्यार का रूप ले लिया, दोनों को पता ही नहीं चला,जब तक दोनों के बिच झगड़ा होता, ज्यादा तर समय आदित्य की ही जीत होती थी,लेकिन जबसे शादी की बात हुई, स्वेता अपनी बात आदित्य से मानने लगी, एक दिन स्वेता ने आदित्य से वो बात मनवा ली जो बात आदित्य का दिल कभी नहीं मान सकता था,अब तो आदित्य को बहुत बुरा लगा लेकिन क्या कर सकता था,वो स्वेता से बहुत ज्यादा प्यार करता था,इसलिए वो हर बात स्वेता का मानने लगा.

और भी रोमांटिक प्रेम कहानियां sad love story in hindi language true पढ़ना ना भूलें==>
बेदर्द इश्क़
एक छोटी सी मोहब्बत की कहानी
जब प्यार ने बर्बाद किया
एक सच्ची प्रेम कहानी
अनचाहा प्यार


sad love story in hindi language true, short love story in hindi language, most romantic love story in hindi language, love story in hindi
एक दिन अचानक ऑफिस में किसी बात को ले कर दोनों में फिर से झगड़ा शुरू हो गया, और इस बार आदित्य ने साडी गलती स्वेता की बता डाली जिससे स्वेता को बहुत बुरा लगा और वो बहुत देर तक रोटी रही, उसने इसकी शिकायत मम्मी से कर दी, फिर क्या था, मम्मी ने आदित्य को सुना डाला, अब तो आदित्य की मुसीबत और बढ़ गयी, पहले स्वेता थी अब तो उसकी मम्मी भी उसे सुनाती थी, ना चाहते हुए भी आदित्य को स्वेता से माफ़ी मांगनी पड़ी , स्वेता बहुत खुश हुई, क्योंकि उसने एक बार फिर अपनी बात मनवा ली.लेकिन स्वेता ये नहीं समझ पायी की आदित्य को बहुत बुरा लगा,और वो अंदर से टुटा जा रहा है, उसे तो सिर्फ अपनी जित पर ख़ुशी हो रही थी, ज्यों ज्यों शादी का दिन करीब आ रहा था, स्वेता जिद कारक झगड़ कर अपनी सारी बात आदित्य से मनवा रही थी, और आदित्य अंदर से और ज्यादा टूटता जा रहा था,लेकिन स्वेता सिर्फ और सिर्फ अपनी जित से खुश हो रही थी, उसे लग रहा था की आदित्य अब सारी ज़िंदगी उसकी बात मानेगा,लेकिन किस्मत को शायद कुछ और ही मंजूर था,जब शादी के दिन करीब आये तभी आदित्य बीमार पड़ा, और स्वेता ने आदित्य को ये कहते हुए ताना मार दिया की हमेशा बीमार ही रहते हो,ये बात आदित्य को बहुत बुरी लगी, उसे लगा की स्वेता उसकी देख भाल करेगी ,लेकिन यहाँ तो उल्टा ही हो गया,स्वेता ने तो उसे ताना मार दिया,जिसे आदित्य बर्दास्त नहीं कर पाया , और उसके दिलो दिमाग में क्या चल रहा था,उसने स्वेता को नहीं बताया,और ना ही उसने अपनी बीमारी के बारे में स्वेता को बताया, लेकिन डॉक्टर ने आदित्य को बोल दिया की उसके पास समय कम है,जिसे सुन कर आदित्य ने अपने मम्मी-पापा को बैंगलोर ये कह कर बुला लिया की शादी की शॉपिंग करनी है इसलिए आ जाओ , और जिस पल उसके मम्मी पापा आये आदित्य उनसे मिला,उसी पल आदित्य ने आखिरी सांस ली और वो इस दुनिया को छोड़ दिया, सभी को बहुत ही आस्चर्य हुआ, उसके मम्मी पापा ने आदित्य को ले कर हॉस्पिटल गए जहाँ डॉक्टर ने बताया की आदित्य को पहले ही पता था की वो ज्यादा दिन नहीं बचने वाला,ये सुन कर स्वेता सन्न रह गयी उसे अपने कानो पर विस्वास नहीं हो रहा था की आखिर ऐसी क्या बात थी की आदित्य ने उसे नहीं बताया,और उसे अकेला छोड़ गया,तभी स्वेता को वो पल याद आये जब आदित्य ने बोलै था की तुम अभी मेरे प्यार कदर नहीं कर रही हो जब मैं तुम्हे अकेला छोड़ जाऊंगा तब तुम्हे मेरे प्यार का एहसास होगा,और स्वेता ने इसे मजाक में ले लिया था, लेकिन आदित्य की वो बात जब भी स्वेता को याद आती उसके आखों से आसूं निकल जाते, और उस दिन के बाद स्वेता कभी किसी से ना ही झगड़ा की ना ही प्यार..
मैं आशा करता हूँ की आपको ये “sad love story in hindi language true” प्रेरक कहानी आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।
इस कहानी का सर्वाधिकार मेरे पास सुरक्छित है। इसे किसी भी प्रकार से कॉपी करना दंडनीय होगा।



sad love story in hindi language true

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like