Articles Hub

short love stories in hindi- कैसा ये इश्क़ है

हम आपको एक से बढ़कर एक रोमांटिक प्रेम कहानियां प्रकाशित करते हैं।इसी कड़ी में पेश है आज ” कैसा ये इश्क़ है “short love stories in hindi. आशा है ये आपको पसंद आएगी।
नीरज दिल्ली में पढता था.वो पढ़ने में तेज था. एक दिन शाम में उसके घर उसके साथ पढ़ने वाला लड़का जो उसका दोस्त था, वो आया. दोनों में पढ़ाई के बारे में बात चीत होने लगी,तभी उसका दोस्त नीरज को बोला की एक लड़की को वो पसंद करता है,जो रांची में रहती है, लेकिन उसे भाव नहीं देती है, नीरज ने कहा की ऐसी कोई लड़की नहीं है जो उसे इग्नोर करे, ये बात उसके दोस्त को लग गयी, उसने नीरज से चेलेंज लगा लिया की वो उस लड़की को अपने प्यार में डुबो  कर दिखाए….नीरज ने अपने दोस्त का चैलेंज स्वीकार कर लिया. नीरज के दोस्त ने उस लड़की का नंबर नीरज को दे दिया. नीरज ने उस नंबर पर कॉल किया, और बात करना चाही. लड़की ने सीधे पूछ दिया कौन बोल रहे हो? नीरज ने अपना नाम नीरज बताया, उसके बाद लड़की ने पूछा मेरा नंबर कहाँ से मिला? नीरज ने बताया मिल गया, लड़की ने फिर पूछा,क्या मैं तुम्हे जानती हूँ? नीरज ने बताया नहीं,लेकिन बात करोगी तो जान जाओगी. इस पर लड़की ने कहा,मेरा नंबर कहाँ से मिला ये बताओ? नीरज ने कहा,मिल गया,मुझे तुमसे दोस्ती करना है. लड़की ने कहा मुझे अनजान इंसान से कोई बात नहीं करनी और दोबारा कॉल करने से मना  कर दिया.नीरज का चेहरा उतर गया. जिसे देख कर नीरज के दोस्त को हस्सी आ गयी और वो बोल पड़ा मैंने पहले ही मना किया था की ये लड़की दोस्ती नहीं करेगी,प्यार करना तो दूर की बात है. जिसे सुन कर नीरज को और गुस्सा आ गया,उसने भी मन ही मन ठान लिया की अब वो उस लड़की से बात करके ही दम लेगा.एक दो दिनों के बाद नीरज ने फिर उस लड़की को कॉल किया,लड़की ने फिर से पूछा कौन बोल रहा है? नीरज ने बताया नीरज बोल रहा हूँ. इस पर लड़की ने बोला,मैंने पहले ही तुम्हे कॉल करने से मना किया था,फिर क्यों कॉल किया,नीरज ने भी बोल दिया बात करनी थी इसलिए कॉल किया. लड़की ने बोला मुझे तुमसे बात नहीं करनी, नीरज ने कहा,लेकिन मुझे तुमसे बात करनी है,इसलिए मुझसे बात कर लो,बात कर लोगी फिर दोबारा कॉल नहीं करूँगा.लड़की ने सोचा, एक बार बात कर लेती हूँ,फिर ये दोबारा बात नहीं करेगा, इसलिए उसने बात करना शुरू कर दिया,पहले तो इधर-उधर की बातें हुई, फिर नीरज ने अपने बारे में बताया और फिर उसके बारे में पूछा,लड़की ने भी अपना नाम स्वेता बताया,और बोला वो रांची में रहती है और डॉक्टर की पढ़ाई कर रही है.धीरे-धीरे बात-चीत का सिलसिला शुरू हो गया,स्वेता को भी नीरज से बात करना अच्छा लगा. अब तो स्वेता भी नीरज को कॉल करके बात करती,दोनों में अच्छी दोस्ती हो गयी, एक दिन स्वेता ने नीरज से अपना फोटो देने को बोला,नीरज ने अपना फोटो दिया,जो स्वेता को पसंद आ गयी. नीरज ने भी स्वेता से अपना फोटो देने को कहा, स्वेता ने भी अपना फोटो दिया,जिसमे स्वेता मोती नजर आ रही थी, नीरज ने उसे मोटी कह दिया,स्वेता को बुरा लग गया।
और प्रेम कहानियां पढ़ें==>
होते-होते प्यार हो गया
कयामते इश्क़
अजब प्यार की गजब कहानी
कुछ इस कदर दिल की कशिश





उसने कहा,वो ठीक है,तंदुरुस्त है,मोटी नहीं है,लेकिन नीरज को वो मोटी नजर आ रही थी, अब तो फोटो देख कर नीरज स्वेता को कॉल नहीं करता,वहीँ स्वेता उसे बार बार कॉल करती और एक दिन स्वेता ने कह दिया की वो उसे पसंद करती है और उससे प्यार करती है, उसके बिना नहीं रह सकती. जिसे सुन कर नीरज को आस्चर्य हुआ, जिस लड़की को अपने प्यार में डूबना था,आज  वो खुद अपने प्यार का इजहार कर रही है, स्वेता ने बतया की वो दिल्ली आएगी उससे मिलने के लिए. नीरज ने भी हाँ में उत्तर दे दिया,उसे समझ में नहीं आ रहा था की वो क्या करे? लेकिन चुकी बातों का सिलसिला नीरज ने ही शुरू किया था और वो डॉक्टर बनने वाली थी,इसलिए नीरज ने स्वेता से प्यार करने का मन बना लिया,लेकिन वो स्वेता को कभी खुल कर नहीं बोल पा रहा था,एक दिन नीरज को अपने घर पटना जाना था,इसलिए वो पटना चला गया,ट्रैन में होने की वजह से वो स्वेता से बात नहीं कर पाया,जिस वजह से स्वेता बहुत अपसेट हो गयी,वो लगातार नीरज को कॉल कर रही थी, पटना पहुँच कर नीरज ने बताया की वो अपने घर आ रहा था इसलिए वो उससे बात नहीं कर पाया.स्वेता ने पूछा,घर कहाँ है,इस पर नीरज ने बताया की पटना. तो स्वेता चौंक गयी और उसने बताया की उसका घर भी पटना है,वो उससे मिलने पटना आ रही है,तभी स्वेता के परीक्षा  के डेट आ गए और वो पटना नहीं आ पायी उसने अगली बार उससे मिलने का मन बनाया. नीरज ने जब स्वेता का फोटो अपनी मम्मी को दिखाया तो उसकी मम्मी  ने कहा की लड़की बहुत मोटी है और तुम  बहुत पतले  इसलिए जोड़ी  जम नहीं रही,अब तो मम्मी  की बात नीरज को लग गयी और उसने स्वेता से बात करना बंद  कर दिया,लेकिन स्वेता उससे सच्चा  प्यार करने लगी थी इसलिए उसने कहाँ की वो अपना वजन  कम कर लेगी  वो बहुत पतली  हो जाएगी  इसलिए वो उसे नहीं छोड़े , वो उससे सच्चा  प्यार करती है,ना मिलने पर वो नहीं रह पायेगी .अब तो नीरज को समझ नहीं आ रहा था की वो क्या करे? फ़िलहाल  उसने स्वेता से अपना रिश्ता  बनाये  रखा. 
चुकी स्वेता नीरज से बहुत ही ज्यादा प्यार करती थी,इसलिए सिर्फ मोटी होने की वजह से नीरज उसे नहीं छोड़ सकता था,लेकिन उसे ये मालूम था की उसकी मम्मी कभी नहीं मानेगी. इसलिए नीरज ने स्वेता को बोल दिया की वो अपना वजह कम करे,और दुबली होने की कोशिश करे. स्वेता ने भी नीरज की बात मान ली. जब पटना का जिक्र हुआ तो नीरज ने स्वेता से पूछा की वो किस स्कूल में पढ़ी है, स्कूल का नाम सुन कर नीरज ने कहा की उसका बड़ा भाई भी उसी स्कूल में पढ़ा था. फिर नीरज ने पूछा की किस साल में वो उस स्कूल में पढ़ी थी, तो उसने साल बताया और क्लास भी बताया,आस्चर्य की बात थी की उसी साल में उसके भैया भी उसी क्लास में पढ़े थे,इसका मतलब साफ़ था की वो उसके भैया की दोस्त थी, उसने बताया की वो उसके भैया की क्लास मेट है इस हिसाब से वो उसकी दीदी हुई,लेकिन वो अभी उसके साथ कैसे हो गयी? स्वेता ने बोला की वो उससे प्यार करती है,इसलिए उसे दीदी ना बोले, और साथ ही बताया की डॉक्टर बनने के लिए उसने अपना एक साल तैयारी करने में लगा दिया,इसलिए वो आज उसकी बैच मेट हो गयी. और अगली बार से उसे दीदी ना बोले. नीरज ने जब अपने भैया से स्वेता के बारे में पूछा तो उसके भैया ने भी उसे मोटी कह दिया और पूछा वो उसे कैसे जनता है, इस पर नीरज ने पूरी बात बता दी, उसके भैया ने नीरज को बोला की उस मोटी से दूर ही रहे. भैया की बात मान कर नीरज स्वेता से बात करना बंद कर दिया, दो दिनों के बात नीरज के मोबाइल पर मेसेज आया की स्वेता ने खुदखुशी करने की कोशिश की,जिसे पढ़ कर नीरज डर गया,और उसने तुरंत स्वेता को कॉल किया और स्वेता ने पूछा वो उससे प्यार करता है या नहीं? नीरज खुदखुशी सुन कर इतना डर गया था की उसने हाँ कह दिया और बोला,वो उससे प्यार करता है और कभी साथ नहीं छोड़ेगा, वो कभी खुदखुशी ना करे.स्वेता ने नीरज की बात मान ली और वो बहुत खुश हुई आखिर उसने नीरज को पा ही लिया,नीरज वो दिन याद करने लगे जब उसने अपनी दोस्त की बात मानी थी,जिसकी वजह से ना चाहते हुए भी उसे स्वेता से प्यार करना पड़ रहा था. बहुत ही अजीब स्थिति बानी हुई थी,जिसमे नीरज को ना चाहते हुए भी प्यार करना पड़ रहा था. इस बात को कुछ दिन हुए थे की स्वेता वापस अपने घर पटना आ गयी और उसने नीरज को बताया की उसने रांची छोड़ दिया है,क्योंकि उसे पटना के मेडिकल कॉलेज में पढ़ाई करने का मौका मिल गया है,अगली बार वो जब भी पटना आये,उसके घर जरूर आये. नीरज ने पूछा क्यों? इस पर स्वेता ने बताया की वो उसे अपनी मम्मी-पापा से मिलवाना है. मतलब साफ़ था की बात बहुत आगे बढ़ गयी थी,जहाँ से नीरज को वापस लौटने का कोई मौका नहीं मिल पा रहा था. अब उन दोनों में रोज में बात होने लगी,और स्वेता अपनी सारी जिंदगी नीरज के साथ बिताने का प्लान बनाने लगी. नीरज भी उसकी हाँ में हाँ मिला रहा था. देखते-दखते एक साल बीत गए, और इन दौरान स्वेता ने अपना वजह काफी कम कर लिया था,अब वो मोटी नजर नहीं आ रही थी,जिसकी वजह से नीरज को भी स्वेता से प्यार होने लगा था,वैसे भी समय के साथ साथ नीरज को स्वेता से प्यार होने ही लगा था,उसने भी सोच लिया था की अब वो शादी करेगा तो सिर्फ और सिर्फ स्वेता से. स्वेता को पटना आये कुछ ही महीने हुए थे की स्वेता नीरज को बहुत कम कॉल करती थी,अब हमेशा नीरज ही स्वेता को कॉल करता था,जहाँ स्वेता नीरज को हमेशा कॉल करती थी,वहीँ अब नीरज स्वेता को बार बार कॉल करता था,लेकिन स्वेता बहुत ही कम बात करती थी, नीरज स्वेता के स्वभाव में आये बदलाव को देख कर बहुत अपसेट रहने लगा. एक दिन नीरज पटना आ गया, स्वेता से मिलने. लेकिन स्वेता किसी ना किसी बहाने से नीरज से नहीं मिलती. एक दिन नीरज ने स्वेता का कॉलेज जाने का मन बनाया और उससे मिलने उसके कॉलेज पहुंचा,तो पाया की स्वेता किसी और के साथ हाथ पकड़ कर घूम रही थी,नीरज ने जब स्वेता को कॉल किया तो स्वेता ने उसका कॉल काट दिया,बार बार कॉल करने के बाद भी स्वेता उसका फोन नहीं उठा रही थी,उसके साथ घूमने वाले लड़के ने स्वेता  को पूछा कौन है जो लगातार कॉल कर रहा है, इस पर स्वेता ने जो जवाब दिया उसे सुन कर नीरज को अपने कानो पर विश्वास नहीं हुआ. स्वेता ने बताया की “है एक चिपकू,जो बार बार कॉल करके उसे परेशान करता है, एक दिन पुलिस से कम्प्लेन करके उसके हाथ पैर तुड़वा दूंगी. नीरज ये सारी बातें जब अपनी कानो से सुना तो, उसके आँखों में आसूं आ गए,और वो वापस दिल्ली लौट गया,साथ ही अपने मोबाइल से स्वेता का नंबर डिलीट कर दिया,साथ ही अपने दिल और दिमाग से स्वेता को भूलने में लग गया।

आशा है ये “short love stories in hindi” आपको पसंद आयी होगी।कृपया अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ इसे व्हाट्स ऐप और फेसबुक पर शेयर करें।



loading...
You might also like