ga('send', 'pageview');
Articles Hub

एक डरावना सच -story of horror story movie in hindi

story of horror story movie in hindi

story of horror story movie in hindi, latest horror story in hindi, short spirit story in hindi,best horror story in hindi language, scary story in hindi language, ghost in hindi, भूत की कहानी
हम एक से बढ़कर एक Horror kahaniyan प्रकाशित करते हैं। पेश है इसी कड़ी में आज हम “एक डरावना सच”story of horror story movie in hindi
प्रकाशित कर रहे हैं . आशा है आपको ये Kahani पसंद आएगी
एक सच…
पंकज सरकारी जॉब में था, वह लखनऊ में अपनी पत्नी, और ५ साल की बेटी के साथ रहता था. उसे सरकारी क्वाटर मिला हुआ था.सरकारी क्वाटर थोड़ा सा छोटा था, लेकिन पंकज को इस बात की ख़ुशी थी लखनऊ जैसे शहर में क्वाटर मिलना आसान नहीं था. इस क्वाटर में अगर सबसे दुखी कोई था तो वह थी उसकी बेटी, भले वह 5 साल की ही थी लेकिन उसे क्वाटर छोटा लग रहा था, तभी पंकज का ट्रांसफर गोरखपुर से थोड़ी दुरी पर एक कसबे में हो गया, और इस कसबे में उसे बहुत बड़ा क्वाटर मिला, जिसे देख कर उसकी बेटी बहुत खुश हुई, क्योँकि इस क्वाटर में उसका कमरा भी अलग था, और इतना बड़ा था की वह पुरे क्वाटर में दौड़ लगाया करती थी. उसकी ख़ुशी देख कर पंकज भी खुश था, पंकज और उसकी पत्नी जरूर थोड़ा सा परेशान थे, क्योँकि लखनऊ से सीधे इस छोटे से कसबे में आना उनको रास नहीं आ रहा था, लेकिन क्या कर सकते थे? हलाकि पंकज की पत्नी को इस बात की ख़ुशी थी की इस बड़े से क्वाटर में उन्हें अपना सामान नहीं खोलना पड़ा, क्योँकि इस क्वाटर में सब कुछ पहले से था, लेकिन सफाई बहुत करवानी पड़ी, क्योँकि बहुत दिनों से इस क्वाटर में कोई नहीं रह रहा था, इससे पहले जिन्हे यह क्वाटर मिला था वो अपने परिवार के साथ गोरखपुर में ही रहते थे, इसलिए यह क्वाटर बहुत सालो से बंद पड़ा था, काफी सफाई के बाद क्वाटर दुरुस्त हुआ, पुराने जमाने के बने इस क्वाटर में पलंग भी बहुत पुराना था, आदम कद का शीशा, सब कुछ बहुत ही पुराना था, जो भी पंकज की बेटी सबसे ज्यादा खुश थी, क्योँकि उसे बहुत बड़ा रूम मिला था वह भी बिलकुल अलग. वह अपने रूम में खेलती रहती थी ,
story of horror story movie in hindi, latest horror story in hindi, short spirit story in hindi,best horror story in hindi language, scary story in hindi language, ghost in hindi, भूत की कहानी
और भी भूत की कहानियां horror stories पढ़ना ना भूलें==>
एक प्रेतात्मा का कहर
खुनी चुड़ैल और गर्ल्स हॉस्टल का आतंक
खुनी गुड़िया का कहर
खुनी हवेली का रहस्य

उसके रूम में बड़े बड़े अलमीरा थे, और एक पुराना बहुत बड़ा ड्रेसिंग टेबल भी था, जी९समे बहुत बड़ा शिक्षा लगा हुआ, वह घंटो शीशा में अपने आपको देखा करती थी, पंकज ने उसका एडमिशन प्ले स्कूल में करवा दिया, खुश दिनों के बाद स्कूल में गर्मी की छुट्टिया हो गयी और बच्ची घर में ही रहने लगी, नया नया होने की वजह सड़े उसकी कोई दोस्त भी नहीं थी, अब उसे अकेलापन भी लगने लगा, वह अकेले ही घर में गुड़ियों से खेला करती थी .एक रात खाना खाने के बाद वह अपने रूम खेल रही थी तभी उसने किसी की आवाज सुनी लेकिन उसे अपने कमरे में कोई नजर नहीं आया, फिर आवाज आयी, वह किसी बच्चे की थी, जो उससे पूछ रहा था की क्या वह भी उसके साथ खेल सकता है, उसने एक बार फिर चारो तरफ नजर घुमाई, इस बार उसे पता चला की यह आवाज उस शीशे से आ रही है, उसने देखा की शीशे में उसी के उम्र का एक बच्चा बैठा हुआ है जो उसके साथ खेलना चाहता है बच्ची ने हामी भर दी,बच्ची ने उससे उसका नाम पूछा तो बच्चे ने अपना नाम राजा बताया, ुस्कर बाद बच्ची ने अपना नाम रानी बताया. अब राजा और रानी में बात चीत होने लगा, रानी ने जब राजा से उसके माँ बाप के बारे में पूछा,तो राजा ने बताया की उसका कोई नहीं है, वह अकेला इस घर में रहता है, और यह शीशा ही उसका घर है, और साथ ही यह भी बताया की यह बात वह किसी को नहीं बातये. रानी मान गयी, अब रानी राजा के साथ खेलते रहती थी, रानी खुश थी उसको खेलने वाला एक साथी मिल गया. इस तरह कुछ दिन बिट गए, एक रात रानी की माँ उसके कमरे में आयी तो उसने देखा की रानी शीशा से बात कर रही है, उसे आस्चर्य हुआ की वह खुद से क्यों बात कर रही है, उसने रानी के पास जा कर बोलै की वह किस्से बात कर रही है तो रानी ने बताया की वह अपने दोस्त राजा से बात कर रही है, इस पर उसकी माँ ने पूछा राजा कहाँ है तो रानी ें शीशा की तरफ इशारा किया लेकिन उसकी माँ को कोई दिख नहीं रहा था, अब उसकी माँ परेशान हो गयी पहले तो उसे लगा की उसकी बेटी मजाक कर रही है लेकिन बाद में उसे एहसास हुआ की वाकई वह शीशा से बात करती है यह बात उसने जब पंकज को बताई तो पंकज ने भी अपने बेटी से प्यार से पूछा तो रानी ने सब बात बता दी , अब तो पंकज भी हैरान, अब वह उस कमरे में रानी को नहीं जाने देता, और कमरे को बंद कर दिया, लेकिन रोज रात को कमरे का दरवाजा पीटा जाता, अब तो पंकज को कुछ समझ नहीं आ रहा था, उसने आस पास के लोगो से पता किया तो पता चला की बहुत साल पहले इस माकन के छत से गिर कर एक बच्चे की मौत हो गयी थी जिसका नाम राजा था, अब तो पंकज को यकीं हो गया की हो ना हो उसकी बेटी राजा के भूत से बात करती है, इधर राजा अपनी दोस्त रानी को ना पा कर गुस्सा हो गया और उसने क्वाटर में तोड़ फोड़ करना शुरू कर दिया, अजीब अजीब सी घटना होने लगी, कभी बल्ब फुट जाता तो कभी शीशा टूट जाता, पंकज ने एक बाबा को बुला कर दिखाया तो बाबा ने बताया बच्चा का आत्मा है वह उसे भगा देगा, लेकिन बाबा को यह अंदाजा नहीं था की बच्चा का आत्मा बहुत ही पुराना था, जिसकी वजह से बाबा के नाक से खून निकलने लगा बाबा अपनी जान कर भागे , अब तो पंकज और उसकी पत्नी पूरी तरह से डर गए, और उन्होंने अपनी बेटी को ले कर क्वाटर छोड़ कर गोरखपुर शिफ्ट कर गए, तब से आज तक उस क्वाटर में कोई और शिफ्ट नहीं किया……….

मैं आशा करता हूँ की आपको ये Kahaani आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।
Tags-story of horror story movie in hindi, latest horror story in hindi, short spirit story in hindi,best horror story in hindi language, scary story in hindi language, ghost in hindi, भूत की कहानी

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like