Articles Hub

suspense and thriller story in hindi- इक्छाधारी नाग





हम एक एक सस्पेंस और थ्रिलर कहानियां प्रकाशित करते रहते हैं। पेश है उसी कड़ी में “इक्छाधारी नाग” suspense and thriller story in hindi. आशा है ,ये आपको अच्छी लगेगी।

आज हम एक किस्सा ऐसा लेकर आये है जो आपके रोंगटे खड़े कर देगा। अमित अपने दोस्तों के साथ दिल्ली से नोएडा जा रहा था, खूब मस्ती के साथ उनका सफ़र बीत रहा था। ब्रेक लेने के लिए वो एक होटल में रुकते है और फिर खा पीने के बाद वो रात में वही रुकने का मन बनाते हैं। सब अपने अपने रूम में जाकर सो जाते हैं की, रात के 1 बजे अजय एक आवाज़ सुनकर उठ जाता है। आवाज़ सुनके ऐसा लग रहा था जैसे किसी संगीत पर नृत्य चल रहा हो। जिज्ञासावश वो होटल के पीछे वाले जंगल में जाता है। कुछ देर आगे जाने के बाद उसे पास के पीपल के पेड़ में कुछ चमकता सा नज़र आता है। उसने पास जाकर देखा तो पाया की ये तो नागमणि है जिसको मिल जाये वो किस्मतवाला बन जाता है।अमित के मन में लालच आ जाता है और वो नागमणि लेकर जैसे ही भागने लगता है तभी वहां सर्प के आकर के दो जीव प्रकट हो जाते है जिनकी लंबाई 10 फ़ीट थी और आधा शरीर साँप का और आधा इंसान का था। वो अमित से कहते है कि ये हमे वापस कर दो नहीं तो जान से जाओगे। अजय तब भी भागता रहता है तो उनमे से एक अपने मुँह से नीले जहर का धुँआ फेकता है,जिससे अमित कुछ देर के लिए अँधा हो जाता है। कुछ देर बाद वो नाग नागिन गायब हो जाते है। अगली सुबह उसके दोस्त अमित को ढूंढते हुए आ जाते है तो वहां बेहोश मिलता है। उसको होश में लाकर उससे बेहोशी का कारण पूछते हैं ।
तो वो उन्हें सब बता देता है,पर कोई उसकी बात पर विश्वास नहीं करते। अमित कहता है-एक दिन रुक के देखो,विश्वास हो जायेगा। वो एक दिन फिर उस होटल में एक और रात के लिए रुक जाते है। वो छिप कर इंतजार करते हैं पर रात को कई घंटे बीतने के बाद भी कुछ नहीं होता।सब सोचते है,जरूर अमित ने सपना देखा होगा।वे सोच ही रहे थे कि सपेरे की बीन के आवाज़ ने सबको चौका दिया।वो उस आवाज़ की तरफ दोड पड़े। उन्होंने एक पेड़ के पीछे से देखा कि एक सपेरा बीन बजाकर नाग नागिन को बुला रहा है। पेड़ के पीछे से वो नाग नागिन प्रकट होते है और सपेरा उनके सामने झुक जाता है और उनको प्रसाद देता है। वो नाग नागिन बदले में उसे सोने के सिक्के देते है और फिर वो गायब हो जाते है। सपेरा जैसे ही वहा से निकलता है की अमित उससे पूछता है कि बाबा वो नाग नागिन कौन थे। सपेरा बोलता है कि ये नाग नागिन हमारे लोक देवता है और सदियो से ये हमारे गाँव की रक्षा कर रहे है। उस पेड़ के पास उनकी नागमणि रहती है,जो उसे लेने की कोशिश करता है, उसकी जान चली जाती है।अमित का एक दोस्त हरीश बोलता है कि सब बकवास है और मैं वो मणि निकालकर ले जाऊँगा। बाबा बोलता है कि ऐसा मत कर जान से जायेगा पर हरीश अपने कुछ दोस्तों के साथ उस मणि की तरफ बढ़ता है, पर जैसे ही वो उनकी तरफ बढ़ता है, एक विशालकाय साँप वहां आकर हरीश को जकड लेता है और उसे ज़िंदा निगल जाता है,फिर वो अमित और उसके दोस्तों की तरफ बढ़ता है। वो सब डरते हुए उस सपेरे से बचने का उपाय पूछते हैं। सपेरा कहता है कि अब कोई रास्ता नहीं, यहाँ से भाग जाओ। वो भागने लगते हैं और साँप उनके पीछे लग जाता है। किसी तरह अमित अपने अपनी गाड़ी तक पहुंच जाता है और फिर उसमे बैठकर वहां से भाग जाता है। पर अगली रात अमित और उसके दोस्तो अपने अपने घरों में अज्ञातकरणवस मृत पाए जाते है। कहा जाता है कि उस नाग ने ही उनकी हत्या की थी पर पुलिस रिपोर्ट के मुताबिक उनकी मौत किसी सदमे और ख़ौफ़ से हुई थी। सच क्या है कोई नहीं जानता, पर यही कहूँगा कि अनजान ताकतों से कभी पंगा मत लेना।

हमें आशा है की ये “suspense and thriller story in hindi” कहानी आपको अच्छी लगी। कृपया इस अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऐप्प पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। देसिकहानियाँ की सारी कहानियां पढ़ने के लिए घंटी के चिन्ह पर जाकर सब्सक्राइब करें। धन्यवाद्




80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like