ga('send', 'pageview');
Articles Hub

बाहर आने का रास्ता-The way of going out a hindi incomplete love story

बाहर आने का रास्ता -जॉय विलियम्स
The way of going out a hindi incomplete love story, true love story in hindi in short, true sad love story in hindi language, hindi love story in short love, love story novel in hindi language, romantic love stories in hindi language
जब मैं छोटी थी तब एक दिन मेरे पिता ने कहा -लिज़ी मैं तुम्हे तुम्हारे दादाजी के बारे में बताना चाहता हूँ। जब वह मरे तब ठीक पंद्रह मिनट पहले वे ज़िंदा थे। माँ ने कहा -चलो उसे चिढ़ाना बंद करो। पहाड़ों पर बेस घर पर मैंने एक अजीब चीज़ देखा ,-मेरे पिता लंगड़े होने का स्वांग कर रहे थे। वह डगमगा रहे थे। हट्ठे कट्ठे थे। उन्होंने मुझे देखा और मुंह घूमा लिया जैसे पहचानते नहीं हों। मेरी माँ को पिने की लत थी। मेरे पिता ने हमें छोड़ दिया शायद इसलिए उन्हें यह लत लगी हो। अपने बचपन में मेरी माँ ने जादूगर हाउ डिनी को देखा था। उसने एक हाथी को जादू से गायब कर दिया था। उसने सबके सामने एक बीज से संतरे का पूरा पेड़ उगा कर दिखाया था। वह हथकड़ियों। जंजीरों। रस्सियों में बंधे होने के वावजूद पालक झपकते बाहर आ जाता था। मैंने पूछा था कि क्या हाऊ डिनी ने किसी से प्यार किया था ? हाँ रोज़ाबेल से -माँ ने कहा। क्या वह रोज़ाबेल को भी गायब कर सकता था ?पता नहीं। मेरी माँ ने कहा कि हाउ डिनी की आँखें काली थी। क्या वह मेरे पिता के समान लगता था -मैंने पूछा। हम खाना खाने के बाद एक रेस्त्रां में रुके। माँ शराबखाने में बैठी किसी सुन्दर औरत की तरह घबराई सी लग रही थी। पुरानी यादें भी कभी -कभी कितनी धोखादेह होती है। तुम्हे घर चलना है। लिज़ी तुम रुको मुझे कार में से कुछ लेकर आना है। मैं खड़ी होकर इंतज़ार करने लगी। मेरी माँ अबतक लौटी नहीं थी शायद मुझसे छिपाकर एक छोटी सी ड्रिंक ले रही हों। थोड़ी देर बाद हॉल से हम बाहर आ गए थे।
और भी रोमांटिक प्रेम कहानियां “the love story in hindi” पढ़ना ना भूलें=>
डार्लिंग-a new short love and motivation story of anton chekhov in hindi language
कसक-a new cute love story of a couple about the rudeness of life in hindi language
पडोसी-neighbourhood a new short and sweet love story of dreams
The way of going out a hindi incomplete love story, true love story in hindi in short, true sad love story in hindi language, hindi love story in short love, love story novel in hindi language, romantic love stories in hindi language
मेरी माँ उस ठिगने गेटकीपर से के कन्धों लगी रोये जा रही थी। मैंने जब यह देखा तब उस गेटकीपर से नफरत होने लगी। शहर के फुटपाथ बर्फ से ढंके थे। जिसपर चलना आसान नहीं था। देखो ,मैंने खुद को को कैसे अपने को खींच निकाला है। तुम भी इससे बाहर निकल सकती हो। वह मेरी माँ से बातें कर रहा था। उसने मुझसे कहा -मैंने देखते ही तुम्हारे बारे में जान लिया था तुम्हे अपने आप को संभालना पडेगा . तुम एक माँ भी हो उसने मेरी माँ से कहा। तुम्हे अपने आप को खींचकर बाहर निकालना ही होगा हमें लगा कि उसकी दया ने हमें रस्सी से बाँध दिया। जब वह गया तब मेरी माँ टेबल पर सिर रखकर सो गई। मैंने अपनी माँ को कभी सोते हुए नहीं देखा। मै उन्हें वैसे ही देखती रही जैसे उन्होंने कभी मुझे देखा होगा। वैसे हर कोई किसी सोई हुयी चीज को देखता है। वगैर जाने कि आगे कैसे क्या होगा। मई डबलरोटी के कणो के स्वाद में खो सी गई। और चलते -चलते -आदमी कचौरी समोसे खाकर बीमार हो जाता है पहिए अस्पताल में बेड पर सोये रिश्तेदारों द्वारा लाये संतरे ,मौसमी खाता है ,उसके रिश्तेदार अस्पताल के बाहर खड़े समौसे कचोरी खाते हैं यही तो जीवन चक्र है बांकी सब मोह -माया है। –रिश्ते और रास्ते के बीच एक अजीब रिश्ता होता है ,कभी रिश्तों से रास्ते मिल जाते हैं और कभी रास्तों में रिश्ते बन जाते हैं।

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-The way of going out a hindi incomplete love story, true love story in hindi in short, true sad love story in hindi language, hindi love story in short love, love story novel in hindi language, romantic love stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like