ga('send', 'pageview');
Articles Hub

तीन फायदेमंद बातें-Three Beneficial thoughts a simple hindi story from old rome

Three Beneficial thoughts a simple hindi story from old rome,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
तीन फायदेमंद बातें-प्राचीन काल में रोम में डोमिटियन नाम का सम्राट था। उसके राज्य में अपराधी के लिए कोई भी सज़ा इतने सख्त थे कि दर से कोई अपराध करने से घबराते थे। एक दिन उनके पास एक सौदागर आया और कहा कि वह तीन बातें बेचना चाहता है जो तर्क और ज्ञान से भरी हैं। मूल्य है केवल एक हज़ार स्वर्ण मुद्राएं ,-सौदागर ने कहा। अगर ये बातें काम की नहीं हुई तो मेरा धन मुफ्त में जाएगा। सौदागर ने कहा कि यदि ये बातें हितकर नहीं हुयी तो वह सारा लिया हुआ धन लौटा देगा। राजा ने सहमति दे दी। सौदागर बोला ‘-पहली बात तो यह है कि जो भी करो वह बुद्धि से विचारकर और उसका परिणाम सोचकर करो। दूसरी बात यह कि मुख्य सड़क या राजमार्ग छोड़कर छटे रास्ते या पगडण्डी पर ना जाओ तीसरी बात यह कि उस घर में रात भर का मेहमान कभी ना रहो जहां पति बूढ़ा हो और पत्नी युवती हो। सौदागर की बातें राजा को ठीक लगी और उन्होंने एक हज़ार स्वर्ण मुद्राएं देकर उसे विदा किया। सम्राट के न्यायप्रिय होने के कारण कई गुंडे बदमाश उनके शत्रु हो चुके थे। उनलोगों ने राजा के नाई को काफी धन देकर उससे कहा कि जब वह हज़ामत करने जाएगा तब मौक़ा देखकर उसका गला काट देगा। नाई हज़ामत बनाने लगा तभी उसकी नज़र उस तौलिये पर पड़ी जिसपर लिखा था
और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
सबसे अच्छी इच्छा-The very best desire a story of brothers from denmark
बिजली महादेव-a small story of temple of Mahadev in Himachal Pradesh
बेवफा-Cheater a new short sad love story in hindi language of cheating with partner
Three Beneficial thoughts a simple hindi story from old rome,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

जो कुछ भी करो अपनी बुद्धि से विचारकर और परिणाम सोचकर करो। वह सोचने लगा कि अगर उसने वैसा किया तो पकडे जाने पर कुत्ते की मौत मार दिया जाएगा। नाइ ने सम्राट से माफ़ी मांगी और सारा प्लान बता दिया और तौलिये पर लिखे शब्दों ने उसे इस कुकृत्य करने से बचा लिया। दुश्मनो ने अब दूसरी चाल चली। उन्हें छोटे से रास्ते से सफर करने के लिए कुछ षड्यन्त्रकारी ने प्लान बना लिया ताकि उनकी ह्त्या की जा सके। राजा को सौदागर की दूसरी बात याद आ गई। जो लोग और सिपाही उस छटे से रास्ते से गुजरे ,सब के सब मारे गए पर राजा बच गए क्योंकि वे मुख्य मार्ग से सफर की। एक बार सम्राट को गाँव जाना पड़ा उनके शत्रुओं ने अबकी बार उनका वध करने की पूरी तैयारी कर ली थी। सम्राट की रहने की व्यवस्था की गयी। उन्होंने मेज़बान को उपस्थित होने को कहा। वह एक बूढ़ा व्यक्ति था। बूढ़े की पत्नी को उपस्थित होने को कहा गया। वह 18 बर्ष की नवयौवना थी। सम्राट को सौदागर की तीसरी बात याद आई उन्होंने रात भर सोने के लिए दूसरे स्थान को चुना। उन्होंने यहां तक कह डाला कि इस जगह रहने से अच्छा तो किसी झोपड़ी में रहेंगे। सम्राट चुपके से स्थान बदल लिया। रात के अँधेरे में बूढ़े और उसकी जवान पत्नी ने सभी दरबारीयों को मार डाला। सम्राट बच गए। सौदागर की तीसरी बात भी सत्य साबित हुई उन्होंने ईश्वर को धन्यवाद दिया। बूढ़े और उसके परिवार को सम्राट के हुक्म से मौत की सज़ा दी गई। इस प्रकार सम्राट ने तीनो सिद्धांत को अपनाकर सुखीपूर्वक राज्य किया।

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-Three Beneficial thoughts a simple hindi story from old rome,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like