ga('send', 'pageview');
Articles Hub

कशिश-try a new short and interesting love story in hindi language of a sweat couple

try a new short and interesting love story in hindi language of a sweat couple
try a new short and interesting love story in hindi language of a sweat couple, true love story in hindi in short, true sad love story in hindi language, hindi love story in short love, love story novel in hindi language, romantic love stories in hindi language
आदित्य दिल्ली के इंस्टिट्यूट से नेटवर्किंग की पढ़ाई कर रहा था, उसके बैच में सभी लड़के ही थे, सिर्फ एक लड़की थी, जिसका नाम अंजलि था, अंजलि देखने में जितना सुन्दर थी, उतना ही पढ़ने में भी तेज थी, जबकि आदित्य को पढ़ने में मन नहीं लगता था, वह सिर्फ मार्क्स स्कोर करने के लिए ही पढ़ता था, उसके साथ पढ़ने वाले लड़को से उसकी काफी अच्छी दोस्ती थी, जबकि वह अंजलि से बात चीत भी नहीं करता था, अंजलि भी क्लास में किसी से ज्यादा नहीं बोलती थी, वह सिर्फ पढ़ाई पर ध्यान देती थी, लेकिन यह जरूर था की आदित्य का अपने टीचर के साथ जरूर दोस्ती था, जिसकी वजह से सभी की नजर आदित्य पर बनी रहती थी. आदित्य के साथ पढ़ने वाला लड़का जिसका नाम इन्दर और अशोक, उसका सबसे अच्छा दोस्त था, तीनो एक साथ ही बैठते थे, और तीनो एक साथ ही पढ़ाई करते और साथ साथ ही घूमते भी थे, एक बार क्लास में आदित्य अचानक से बोल उठा, रुको सर इतनी जल्दी क्या है? जल्दी जल्दी पढ़ा रहे हो कुछ समझ में नहीं आ रहा है, उस दिन अंजलि आदित्य को गौर से देखना शुरू कर दी, टीचर ने सभी से पूछा, क्या मैं जल्दी जल्दी पढ़ा रहा हूँ, किसी ने कुछ नहीं कहा, फिर धीरे धीरे से अशोक और इन्दर ने आदित्य का साथ दिया, उसके बाद अंजलि ने भी हामी भर दी, फिर तो सरे क्लास ने हामी भर दी, इस पर टीचर ने कहा, ठीक है, मैं अब धीरे धीरे पढूंगा, कुछ देर पहले जो टीचर आदित्य से गुस्सा थे वह आदित्य से खुश हो गए, क्योँकि आदित्य ने हिम्मत दिखा कर कह दिया, उस दिन टीचर ने सब कुछ अच्छे से समझाया, लेकिन चैप्टर पूरा नहीं हो पाया, वह चैप्टर जितना दिन में पूरा होना चाहिए था, उससे काफी ज्यादा समय लग गया, शायद टीचर ने काफी धीरे धीरे पढ़ाना शुरू कर दिया था, खैर कुछ आदित्य की तारीफ कर रहे थे तो कुछ उसे कोस रहे थे, क्योँकि कुछ स्टूडेंट को डर था की कोर्स पूरा नहीं हो पायेगा, वक्त के साथ साथ जो अंजलि, आदित्य से दूर दूर रहती थी वह अब पास रहने लगी, इन्दर और अशोक ने आदित्य से अंजलि के बारे में पूछा, तो आदित्य ने कहा की वह अंजलि को पसंद करता है, लेकिन उसकी हिम्मत नहीं हो पा रही है की उसे अपने प्यार का इजहार करे, इस पर इन्दर और अशोक ने कहा की अंजलि भी तुम्हारे करीब आने की कोशिश कर रही है, उसे पाने प्यार का इजहार कर दो, आदित्य ने कहा, थोड़ा समय लेता हूँ फिर अपने प्यार का इजहार करूँगा, इस पर इन्दर ने कहा, ज्यादा इंतजार मत करना वरना लेट ना हो जाए, एक दो दिन के बाद आदित्य ने मन बना लिया की वह अंजलि से प्यार का इजहार करेगा लेकिन अंजलि इंस्टिट्यूट आना बंद कर दी, अब तो आदित्य परेशान आखिर अंजलि कहा गयी, अशोक और इन्दर ने कहा, हो सकता है अंजलि बीमार हो गयी हो या फिर वह अपने घर चली गयी हो? चाहे कोई भी कारन हो अंजलि नहीं आ रही थी, अब 15 दिन गुजर गए थे, आदित्य बहुत उदास हो गया था,
और भी रोमांटिक प्रेम कहानियां “the love story in hindi” पढ़ना ना भूलें=>
जिम्मेदारी-Responsibilities a new short love story from the street of bhopal
विश्वास-Believe a new short love story of a simple couple in hindi language
ये मोहब्बत नहीं आसान-This love is not easy a new Love story in hindi language
try a new short and interesting love story in hindi language of a sweat couple, true love story in hindi in short, true sad love story in hindi language, hindi love story in short love, love story novel in hindi language, romantic love stories in hindi language

उसने क्लास में ही टीचर से पूछ लिया की अंजलि नहीं आ रही है? टीचर ने बताया की उसके किडनी में इन्फेक्शन हुआ और फिर दोनों किडनी, आदित्य के साथ साथ पूरा क्लास शॉक हो गया, सभी ने हॉसिपटल में मिलने का मन बनाया, सभी अंजलि से मिलने भी गए लेकिन आदित्य नहीं गया, इन्दर ने साथ चलने को कहा, लेकिन आदित्य का दिल रो रहा था, वह चाह कर भी नहीं जा पाया, सभी मिल कर आये, तो इन्दर ने आदित्य से कहा, अंजलि उसके बारे में पूछ रही थी? उसने झूठ बोल दिया की उसकी भी तबियत खराब है इसलिए वह मिलने नहीं आ सका, अंजलि बच सकती है, यह सुन कर आदित्य खुश हो गया, उसने पूछा, क्या करना होगा, इन्दर ने कहा, उसका ब्लड ग्रुप ओ पॉजिटिव है कोई अगर ओ पॉजिटिव वाला किडनी उसे दे दे तो वह बच जायेगी, तभी अशोक ने कहा, आदित्य का भी तो ब्लड ग्रुप ओ पॉजिटिव है कोई और क्यों? आदित्य डोनेट कर देगा, यह सुन कर आदित्य थोड़ा अपसेट हो गया, फिर वह मान गया, लेकिन एक और समस्या थी की अंजलि के परिवार वाले ही डोनेट कर सकते थे, और आदित्य तो परिवार का था नहीं, इस पर इन्दर ने कहा की पहले आदित्य अंजलि से शादी कर ले फिर तो वह अंजलि का पति बन जाएगा तब तो डोनेट कर सकता है, मतलब साफ़ था की सभी ने आदित्य से अपनी किडनी डोनेट करवाने का मन बना लिया था, लेकिन इसके लिए अंजलि और आदित्य के परिवार वालो की भी सहमति चाहिए थी, यह बात अंजलि से कौन करेगा? क्योँकि अभी तक आदित्य ने अंजलि से अपने प्यार का इजहार भी नहीं कर पाया था, जिसकी कशिश उसके दिल में थी ही, हिम्मत करके आदित्य और उसके साथी अंजलि से मिलने और अपनी बात रखने के लिए हॉसिपटल गए, जहां उन्हें पता चला की अंजलि को डोनर मिल गया है, सभी बहुत खुश थे, उस समय डॉक्टर ने अंजलि को किसी से मिलने नहीं दिया. करीब दो महीने के बाद अंजलि वापस इंस्टिट्यूट आयी, लेकिन उसने आदित्य की तरफ देखा भी नहीं, यह बात आदित्य को परेशान कर गयी, आदित्य अंजलि से बात करना चाहता था लेकिन अंजलि बात नहीं करना चाहती थी, उसने कहा की सभी मुझसे मिलने हॉसिपटल आये लेकिन आदित्य नहीं आया, उन चंद दिनों में मैं मौत को देख कर आयी थी, लेकिन आदित्य नहीं आया, अब तो आदित्य का दिल बैठ गया, अब वह अंजलि को अपने दिल का हाल क्या बताता या यूँ कह ले के की उसकी दिल की ख्वाइश, कशिश दिल में ही दफन हो गयी………

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-try a new short and interesting love story in hindi language of a sweat couple, true love story in hindi in short, true sad love story in hindi language, hindi love story in short love, love story novel in hindi language, romantic love stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like