Articles Hub

three New and great motivational stories in hindi language

three New and great motivational stories in hindi language
1.
(विश्वास की शक्ति)

Two New and great motivational stories in hindi language,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
जिंदगी में किया गया कोई भी काम या मेहनत कभी बेकार नहीं जाती| हम जितनी मेहनत करते है उसका प्रतिफल हमें किसी न किसी रूप में अवश्य मिलता है, यही सत्य है
फर्क केवल इतना है कि कुछ व्यक्ति इस बात पर विश्वास करते है कि “मेहनत कभी बेकार नहीं जाती” और अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए तब तक प्रयास करते रहते है जब तक कि लक्ष्य को प्राप्त नहीं कर लेते| वहीँ दूसरी और कुछ व्यक्ति जल्दी ही हार मान लेते है और प्रयास करना बंद कर देते है|
महान वैज्ञानिक थॉमस एडिसन बहुत ही मेहनती एंव जुझारू प्रवृति के व्यक्ति थे| बचपन में उन्हें यह कहकर स्कूल से निकाल दिया गया कि वह मंद बुद्धि बालक है| उसी थॉमस एडिसन ने कई महत्वपूर्ण आविष्कार किये जिसमें से “बिजली का बल्ब” प्रमुख है| उन्होंने बल्ब का आविष्कार करने के लिए हजारों बार प्रयोग किये थे तब जाकर उन्हें सफलता मिली थी
एक बार जब वह बल्ब बनाने के लिए प्रयोग कर रहे थे तभी एक व्यक्ति ने उनसे पूछा – “आपने करीब एक हजार प्रयोग किये लेकिन आपके सारे प्रयोग असफल रहे और आपकी मेहनत बेकार हो गई| क्या आपको दुःख नहीं होता?
एडिसन ने कहा – “मै नहीं समझता कि मेरे एक हजार प्रयोग असफल हुए है| मेरी मेहनत बेकार नहीं गयी क्योंकि मैंने एक हजार प्रयोग करके यह पता लगाया है कि इन एक हजार तरीकों से बल्ब नहीं बनाया जा सकता| मेरा हर प्रयोग, बल्ब बनाने की प्रक्रिया का हिस्सा है और मैं अपने प्रत्येक प्रयास के साथ एक कदम आगे बढ़ता हूँ
कोई भी सामान्य व्यक्ति होता तो वह जल्द ही हार मान लेता लेकिन थॉमस एडिसन ने अपने प्रयास जारी रखे और हार नहीं मानी| आखिरकार एडिसन की मेहनत रंग लायी और उन्होंने बल्ब का आविष्कार करके पूरी दुनिया को रोशन कर दिया
यह थॉमस एडिसन का विश्वास ही था जिसने आशा की किरण को बुझने नहीं दिया नहीं और पूरी दुनिया को बल्ब के द्वारा रोशन कर दिया
सफलता के रास्ते तभी खुलते है जब हम उसके करीब पहुँच जाते है
“मेहनत कभी बेकार नहीं जाती| यह विश्वास ही हमें आगे बढ़ने एंव निरंतर प्रयास करने के लिए प्रेरित करता है| हमारा हर प्रयास हमें एक कदम आगे बढ़ाता है और हम जैसे जैसे आगे बढ़ते है वैसे वैसे हमारे लिए सफलता के रास्ते खुलते जाते है|
जो व्यक्ति विश्वास नहीं करता वो ज्यादा देर तक प्रयास नहीं कर पाता और जब वह प्रयास नहीं करता तो दूर से उसे आगे के सभी रास्ते बंद नजर आते हैं क्योंकि सफलता के रास्ते हमारे लिए तभी खुलते जब हम उसके बिल्कुल करीब पहुँच जाते है|

2.
(सोच का फ़र्क)
Two New and great motivational stories in hindi language,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
एक शहर में एक धनी व्यक्ति रहता था, उसके पास बहुत पैसा था और उसे इस बात पर बहुत घमंड भी था। एक बार किसी कारण से उसकी आँखों में इंफेक्शन हो गया। आँखों में बुरी तरह जलन होती थी, वह डॉक्टर के पास गया लेकिन डॉक्टर उसकी इस बीमारी का इलाज नहीं कर पाया।
सेठ के पास बहुत पैसा था उसने देश विदेश से बहुत सारे नीम- हकीम और डॉक्टर बुलाए। एक बड़े डॉक्टर ने बताया की आपकी आँखों में एलर्जी है। आपको कुछ दिन तक सिर्फ़ हरा रंग ही देखना होगा और कोई और रंग देखेंगे तो आपकी आँखों को परेशानी होगी।
अब क्या था, सेठ ने बड़े बड़े पेंटरों को बुलाया और पूरे महल को हरे रंग से रंगने के लिए कहा। वह बोला- मुझे हरे रंग से अलावा कोई और रंग दिखाई नहीं देना चाहिए मैं जहाँ से भी गुजरूँ, हर जगह हरा रंग कर दो।

और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
बदलाव की एक प्रेरक कहानी
चालक भेड़िये और खरगोश की प्रेरक कहानी
कोयल और मोर की प्रेरणादायक कहानी
इस काम में बहुत पैसा खर्च हो रहा था लेकिन फिर भी सेठ की नज़र किसी अलग रंग पर पड़ ही जाती थी क्यूंकी पूरे नगर को हरे रंग से रंगना को संभव ही नहीं था, सेठ दिन प्रतिदिन पेंट कराने के लिए पैसा खर्च करता जा रहा था।
वहीं शहर के एक सज्जन पुरुष गुजर रहा था उसने चारों तरफ हरा रंग देखकर लोगों से कारण पूछा।
सारी बात सुनकर वह सेठ के पास गया और बोला सेठ जी आपको इतना पैसा खर्च करने की ज़रूरत नहीं है मेरे पास आपकी परेशानी का एक छोटा सा हल है.. आप हरा चश्मा क्यूँ नहीं खरीद लेते फिर सब कुछ हरा हो जाएगा।
सेठ की आँख खुली की खुली रह गयी उसके दिमाग़ में यह शानदार विचार आया ही नहीं वह बेकार में इतना पैसा खर्च किए जा रहा था।

Moral
जीवन में हमारी सोच और देखने के नज़रिए पर भी बहुत सारी चीज़ें निर्भर करतीं हैं कई बार परेशानी का हल बहुत आसान होता है लेकिन हम परेशानी में फँसे रहते हैं। इसे कहते हैं सोच का फ़र्क।

3.
(भले आदमी को ईश्वर ने ऐसा दिया वरदान)
Two New and great motivational stories in hindi language,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
बहुत पुरानी बात है। कहीं एक भला आदमी रहता था जो सभी से प्रेम करता था और सारे जीवों के प्रति उसके ह्दय में अपार करुणा थी। प्रसन्न होकर ईश्वर ने उसके पास अपना देवदूत भेजा। वह आकर बोला, ‘ईश्वर ने मुझे आपके पास यह कहने के लिए भेजा है कि वह आपसे बहुत प्रसन्न है और आपको कोई दिव्य शक्ति देना चाहते हैं। क्या आप लोगों को रोगमुक्त करने की शक्ति प्राप्त करना चाहोगे?’ भले आदमी ने कहा, ‘बिल्कुल नहीं। मैं यही चाहूंगा कि ईश्वर स्वयं इस बात का निर्णय करे की किसको रोोगमुक्त किया जाए।’
‘तो फिर आप पापियो को सन्मार्ग पर लाने की शक्ति प्राप्त करे।’ देवदूत के कहने पर उस व्यक्ति ने कहा, ‘यह तो आप देवदूतों का काम है। मैं नहीं चाहता की लोग मसीहा मानकर मेरा सम्मान करे।’
‘आपने तो मुझे संकट में डाल दिया।’ देवदूत ने कहा, ‘आपको कोई शक्ति दिए बिना मैं स्वर्ग नहीं लौट सकता। यदि आप स्वयं कोई शक्ति नहीं लेना चाहोगे तो मुझे विवश होकर आपके लिए मुझे किसी शक्ति का चयन करना पड़ेगा।’
उस आदमी ने कुछ क्षण सोचा और कहा,’ फिर ठीक है यदि ऐसा है तो मैं चाहता हूं ईश्वर मुझसे भी कुछ शुभ कर्म करवाना चाहता है। वे अपने आप होते चले आएंगे। परन्तु उनमें मेरा हाथ होने का पता किसी को न चले, मुझे भी नहीं।’
‘ऐसा ही होगा’, देवदूत ने कहा। देवदूत ने भले आदमी की परछाई को रोगमुक्त करने की शक्ति से संपन्न कर दिया। केवल उसी समय के लिए जब सूर्य की किरणें उसके चेहरे पर पड़ रही है। इस प्रकार वह भला आदमी जहां कहीं भी गया लोग रोगमुक्त होता गया। बंजर धरती पर फूल खिल गए और लोगों के जीवन में खुशियां आ गई।
अपनी दिव्य शक्ति से अनभिज्ञ वह व्यक्ति सालों तक दूर देशों की यात्राएं करता रहा। उसके पीछे चल रही उसकी परछाई लोगों का भला करती रही।
मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-Two New and great motivational stories in hindi language,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like