ga('send', 'pageview');
Articles Hub

दो गजब की कहानियां-Two new and short amazing stories in hindi language

दो भाई
Two new and short amazing stories in hindi language,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
एक शहर में दो भाई रहते थे। उन्होंने शहर -शहर,गांव -गांव घूमकर ख़ुशी ढूढ़ने का विचार किया, रास्ते में एक बूढ़ा मिला। बूढ़े के पूछने पर उनलोगों ने बताया कि वे लोग ख़ुशी ढूढ़ने जा रहें है। बूढ़े ने इस काम में उनलोगों की सहायता करनी चाही उसने अपने जेब से मुट्ठी भर सोने के सिक्के निकाले और पूछा -तुम लोगों में से किसे ये सोने के सिक्के चाहिए ? बड़ा भाई ने कहा – मुझे चाहिए यह रत्न ,बूढ़े ने उसे उस रत्न को दे दिया। फिर उस बूढ़े ने अपने कमर पर लादे हुए थैले को उतारा और पूछा -तुममे से कौन इस थैले को गाँव तक ले जाने में मेरी सहायता करेगा ? बड़ा भाई इस बार चुप रहा पर छोटा भाई ने थैले को उठाने के लिए जैसे ही नीचे झुका ,बूढ़े ने कहा -‘मेरे बेटे ,इस थैले में जो भी है उसे तुम ले जाओ ,सब तुम्हारा है। मेरी तरफ से इसे भेंट समझो। छोट भाई ने जैसे ही थैले को खोला तो उसकी आँखे बिस्फारित हो गई। उस थैले में बेशकीमती रत्नो से पूरा भरा था । ख़ुशी के मारे जैसे ही वह आभार और धन्याद देने के लिए अपना सर उठाया पाया कि उस बूढ़े आदमी का कोई आता -पता नहीं है। वह तो गायब हो चुका है।
और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
तज़ुर्बा-experience a new short funny and motivational story of the month
ओलिवर ट्विस्ट-Oliver Twist a new short hindi motivational story of an orphan child
विश्वास-Believe a new short love story of a simple couple in hindi language
Two new and short amazing stories in hindi language,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
फुर्र -फुर्र -एक जुलाहा सूत काटने के लिए रुई लेकर आ रहा था। वह नदी किनारे थोड़ा सुस्ताने बैठा ही था कि जोरों की आंधी आई। आंधी में उसकी सारी रुई उड़ गई। जुलाहा यह सोचकर बहुत घबराया कि बिना रुई के घर पहुँचाने पर पत्नी बहुत नाराज़ होगी सोचा यही बोल दूंगा -फुर्र -फुर्र। जब वह फुर्र -फुर्र बोल रहा था तभी एक चिड़ीमार पक्षी पकड़ रहा था। फुर्र -फुर्र की आवाज़ सुनकर सारे पक्षी आसमान में उड़ गए। उसने जुलाहे से कहा ,तुमने मेरा बहुत नुक्सान किया है ,आगे से कहना पकड़ो -पकड़ो। जुलाहा जोर जोर से पकड़ो -पकड़ो कहते हुवे चलने लगा। रास्ते में चोर लूट के पैसे गिन रहे थे। जुलाहा को देखकर पहले तो वे घबरा गए फिर अकेले देखकर कहा -हमें मरवाने का इरादा है क्या ?तुम आगे से कहोगे -इसको रखो ,ढेरों लाओ। जब वह यही वाक्य रटते शमशान से गुजर रहा था तब वहाँ गाँव वाले एक शव को जला रहे थे। उन्हें बड़ा गुस्सा आया। दुःख की इस घडी में ऐसा सुनकर। तुम्हे कहना चाहिए यह तो बड़े दुःख की बात है। जब वह यही रटते हुवे एक बरात के पास से गुजरा। बारातियों ने वे जुलाहे को पीटने को तैयार हो गए। फिर कहा -तुम कहना भाग्य में हो तो ऐसा सुख मिले वह यही रटते अपनी राह पर आगे बढ़ने लगा। जुलाहा थक कर सो गया। आँखे जब खुली तो देखा -यह तो उसी का घर है। अभी -अभी उसकी पत्नी ने उसके मुंह पर पानी फेंका था। जुलाहे ने कहा -भाग्य में हो तो हर को ऐसा ही सुख मिले।

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-Two new and short amazing stories in hindi language,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

loading...
You might also like