ga('send', 'pageview');
Articles Hub

भगवान् की इच्छा-two new Hindi short stories of a black smith and a friend

two new Hindi short stories of a black smith and a friend

two new Hindi short stories of a black smith and a friend,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

एक लोहार था उसकी दो बेटियां थी। एक का नाम काजल और दूसरे का नाम कोयल था। काजल देखने में काफी सुन्दर थी पर अभिमानी थी जबकि कोयल काजल से काम सुन्दर थी पर दयालु थी। उनके पिता अक्सर कहते कि मैं काजल का विवाह किसी राजकुमार से करूंगा .लोग कोयल के बारे में पूछते तो वे कहते ,-जो भी पहला आदमी उसका हाथ मांगने आएगा उसी के साथ उसका विवाह कर दूंगा। कोयल अपने पिता के इस कथन को बुरा नहीं मानती थी क्योंकि उसका मानना था कि सभी काम ईश्वर के इच्छा से ही होते हैं। एक दिन की बात है एक सुन्दर युवक उनके घर आया। उसने लुहार से कोयल का हाथ माँगा। लुहार राज़ी हो गया दूसरे दिन एक युवक आया उसने अपने आप को राजकुमार बताया उसने काजल से शादी करना चाहा ,दोनों बहनो की शादी एक ही दिन हो गई। कुछ दिनों बाद लुहार को पता चला कि काजल का पति नाम का ही राजकुमार था। लुहार को बहुत दुःख हुआ। पर अब पछताने से क्या हासिल हो सकता था।
और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
बुरा सपना
जंगली बूटी
पंडित जी का गाय

two new Hindi short stories of a black smith and a friend,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
[२]-दोस्त -एक दिन एक दोस्त ने फोन किया -यह मेरा नया नंबर है ,सेव कर लेना। उसने बड़े ही सुन्दर ढंग से जवाब दिया -मैंने तेरी आवाज़ को ही सेव कर रखी है दोस्त ,तुम कितने भी नंबर बदल लो ,मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता। मैं तो तेरी आवाज़ से ही तुझे पहचान लूंगा . हरिवंश रॉय बच्चन जी की एक सुन्दर सी कविता याद आ गई -‘अगर बिकी तेरी दोस्ती तो पहले खरीददार हम होंगे। तुझे खबर ना होगी तेरी कीमत ,पर तुझे पाकर सबसे अमीर हम होंगे। .दोस्त साथ में हो तो रोने में भी शान है। दोस्त ना हो तो महफ़िल भी श्मशान है। —सारा खेल दोस्ती का है ऐ मेरे दोस्त ,वरना —जनाज़ा और बारात एक ही सामान है। -कभी जमी कभी फलक भी है ,दोस्ती झूट भी है सच भी है ,दिल में रह जाये तो कसक भी है -कभी ये हार भी है तो कभी जीत भी है ,बस इतना समझ ले तू ,एक अनमोल हीरा है दोस्ती। और चलते -चलते -गुलज़ार साहब की दो पंक्तियाँ -हाथ छूटे भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते ,वक़्त की शाख से लम्हे नहीं तोड़ा करते

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-two new Hindi short stories of a black smith and a friend,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like