Articles Hub

सत्यभामा द्वारा कृष्ण दान के उपरांत की कथा-two new hindi story of lord Krishna

two new hindi story of lord Krishna,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
1.
(सत्यभामा द्वारा कृष्ण दान के उपरांत की कथा)

जब सत्यभामा ने श्री कृष्ण को दान कर दिया, तो नारद जी कृष्ण को साथ लेकर चल दिये।
भगवन् ! आप इनका उचित मूल्य ले लें -सत्यभामा ने प्रार्थना की।
कोई भी वस्तु लेकर मैं क्या करूँगा? नारद परिग्रही नहीं है।श्री कृष्ण ! आओ चलें।
सत्यभामा मूर्च्छित होने लगीं ।रानियों ने देवर्षि के चरण पकड़े। महाराज उग्रसेन, वसुदेव जी, माता देवकी तथा पूरा यदुवंश वहाँ एकत्र हो गया।
अंत में रुक्मिणी ने कहा –‘दया करें प्रभु’।
दया तो आप कर रही हैं। अच्छा, आप चाहें तो मैं इन निखिल ब्रह्माण्डनायक का उचित मूल्य लेने के लिए तैयार हूँ।
‘मैं दूँगी मूल्य ‘—सत्यभामा ने कहा।
‘निखिल ब्रह्माण्डनायक ‘रुक्मिणी के होंठ काँपे।इनका मूल्य कौन दे सकता है?
‘उचित मूल्य देवि’ नारद जी हँसे। ‘इन्हें तुला में बैठा दीजिए। ‘आप दूसरी ओर ताम्र, लौह, पाषाण भी रखें तो मुझे आपत्ति नहीं है।
तत्काल तुला स्थापित की गयी। रत्न, स्वर्ण, रजत यहाँ तक कि ताम्र तक पर यदुवंशी उतर आये। सम्पूर्ण राजकीय कोष, महाराज उग्रसेन तथा सम्राट युधिष्ठिर का मुकुट तक तुला पर रख दिये। पर तुला किंचित् हिली तक नहीं। एक ओर पितामह भीष्म और दूसरी ओर द्रौपदी। दोनों के नेत्र झर रहे थे। माता देवकी ने रुक्मिणी की ओर देखा।
रुक्मिणी ने कहा –मैं अपने पूरे बैभव के साथ बैठ जाऊँ –पर निखिल ब्रह्माण्ड का बैभव अपने नायक की समता नहीं कर सकता।
‘तुम’ माता ने हलधर की ओर देखा।
‘यह ठीक है कि कृष्ण मेरे अनुज हैं । ‘लेकिन तुला में उनका समत्व करने का साहस मुझमें नहीं है।
‘बेटी ! ऐसे अवसर पर सम्मान रखने से काम नहीं चलेगा। ‘व्रजराज के शिविर में जाओ।श्याम प्रेम में बिकता है और वहाँ प्रत्येक इसका धनी है। किसी को भी ले आओ वहाँ से ।माता देवकी ने कहा।
सत्यभामा जी तो इस समय विह्वल हो रहीं थीं। वे रथ में बैठीं और रथ व्रजराज के शिविर के सम्मुख रुका। उन्होंने यह भी नहीं देखा कि उन्हें कौन कैसे देख रहा है। रथ से उतर कर दौड़ीं वे और सीधे श्री वृषभानुजी के शिविर में कीर्ति कुमारी के चरणों में सिर रख दिया उन्होंने —‘वहन ! शीघ्र चलो! इस विपत्ति से मुझे बचा लो।
जय जय श्री राम
बोलिये वृन्दावन बिहारी लाल की जय।
जय जय श्री राधे।
श्री राधा- कृष्ण की कृपा से आपका दिन मंगलमय हो।
श्री कृष्ण शरणम ममः

और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
बदलाव की एक प्रेरक कहानी
चालक भेड़िये और खरगोश की प्रेरक कहानी
कोयल और मोर की प्रेरणादायक कहानी
two new hindi story of lord Krishna,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
2.
(नंदा नाई)
एक नाई जिसका नाम नंदा था वह एक कृष्ण भक्त था सुबह उठकर कृष्ण की सेवा करता उन्हें भोग लगाता कीर्तन करता फिर अपने काम पर निकलता था सबसे पहले राजा की हजामत करता था क्योंकि कि राजा को दरबार जाना होता था। राजा की हजामत के बाद नगर के लिए निकलता था। एक दिन कृष्ण सेवा के बाद कीर्तन करते करते कृष्ण के ध्यान में खो गया। पत्नी ने देर होते देख और राजा के क्रोध की बात सोचकर नंदा को झंझोरते कहा अजी सुनते हो राजा के दरबार जाने का समय हो गया है राजा की हजामत करनी है राजा क्रोधित हो जायेंगे।
नंदा ने जल्दी अपना सामान लिआ और महल की तरफ चल दिया महल पहुंचा और वहां से राजा दरबार के लिए निकल रहे थे राजा ने नंदा को देखकर कहा अभी तो हजामत कर गये क्या तुम्हे कोई परेशानी है या किसी चीज आवश्यकता है नंदा ने कहा जी नहीं मुझे लगा मैं शायद कुछ भूल रहा था। नंदा मन में सोचने लगा मैं तो अभी आ रहा हूं मैं तो कीर्तन में मुग्ध था तो राजा की हजामत किसने की। नंदा को मन मे विचार आया मेरी लाज रखने और राजा के क्रोध से बचाने मेरे कृष्ण ही मेरे रूप में आये होंगे।

ईश्वर कहते हैं डर मत मैं तेरे साथ हूं।
और कही नहीं तेरे आस पास हूं।।
आँखे बंद करके मुझे याद कर।
और कोई नही मैं तेरा विश्वास हूँ।।

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-two new hindi story of lord Krishna,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like