ga('send', 'pageview');
Articles Hub

प्रेरक प्रसंग-two new inspirational stories in hindi of the prime minister of England and a small village

प्रेरक प्रसंग
two new inspirational stories in hindi of the prime minister of England and a small village,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
इंग्लैंड के भूतपूर्व प्रधानमन्त्री विंस्टन चर्चिल एक बार बी.बी.सी ऑफिस में एक इंटरव्यू के लिए एक टैक्सी पकड़ी। जब वो वहाँ बीबीसी के ऑफिस पहुंचे तब उन्होंने टैक्सीवाले से कहा कि मेरे लौटने तक यानी चालीस मिनट इंतज़ार करे। ड्राइवर ने उनसे माफ़ी मांगी और कहा -मैं इंतज़ार नहीं कर सकता क्योंकि मुझे घर जाकर विंस्टन चर्चिल का भाषण सुनना है। चर्चिल अचंभित और गर्व महसूस कर रहे थे इस आदमी की इच्छा को सुनकर कि वह उनका स्पीच सुननेवाला है सो उन्होंने दस पाउंड निकाले और उस टैक्सी ड्राइवर को दिए पर उसे बताया नहीं कि वो कौन हैं । जब ड्राइवर ने राशि रख ली तब उसने कहा -‘ मैं घंटो रुकूंगा महाशय जब तक आप आ नहीं जाते ,मैं इंतज़ार करूंगा। चर्चिल जाए भांड में। अब देखिये इंसान की फितरत ,सिद्धांत धन के साथ कैसे बदल जाते हैं। मनी पर देश बिक जाते हैं ,मनी के साथ सम्मान को जोड़ा जाता है ,परिवार का बिखराव भी पैसे के कारण होता है। लोग पैसों यानी सम्पति के विवाद में मारे जाते हैं ,दोस्त भी दुश्मन बन जाते हैं। लोग धन के गुलाम तक बन जाते हैं।
और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
ख़ुशी की तलाश-In search of happiness a new inspirational story in hindi language
तीन नयी कहानियों का संगम-three new and Great inspirational hindi stories at one place
हस्तरेखा-a new short hindi story of King Vasusena and Farmers
two new inspirational stories in hindi of the prime minister of England and a small village,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
[२] आपने गोबरेला के बारे में जरूर सूना होगा। यह गाँव -दिहात में पाया जानेवाला एक कीड़ा होता है। इसे गाय ,भैंस की ताज़ी गोबरकी बू बहुत भाति है। वह सुबह ही से गोबर की तलाश में निकल पड़ता है। और जहां भी गोबर मिल जाता है ,वहीँ उसका गोला बनाना शुरू कर देता है। शाम होने तक वह एक बड़ा गोला बना लेता है और उस गोले को धकेलते हुवे अपने बिल तक ले जाता है , लेकिन बिल तक पहुँचाने पर उसे पता चलता है कि बिल का दरवाज़ा तो बहुत छोटा है और बहुत कोशिशों बाद भी वह गोले को बिल के अंदर धकेल पाता और उसे वहीँ छोड़कर वह बिल में चला जाता है। यही हाल मनुष्यों का है। पूरी जिंदगी हम माल -मत्ता जमा करने में लगे रहते हैं और जब अंतिम समय आता है तब एहसास होता है कि ये सब साथ नहीं ले जा सकते। और जीवन भर की संचित राशि को हसरत भरी निगाहों से देखते हुवे इस संसार से खाली हाथ विदा हो जाते हैं।

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-two new inspirational stories in hindi of the prime minister of England and a small village,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like