ga('send', 'pageview');
Articles Hub

चाणक्य नीति-Two new motivational stories about Chanakya niti and solutions

Two new motivational stories about Chanakya niti and solutions,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

एक गाँव में एक बढ़ई रहता था -वह शरीर से चुश्त और दिमाग का मज़बूत इंसान था। एक दिन पास ही के गाँव में एक अमीर आदमी के घर पर फर्नीचर का काम पूरा करके अपना घर वापस लौट रहा था। लौटते वक़्त शाम हो गयी। ठण्ड बहुत था ,लिहाज़ा उसने कम्बल ओढ़ लिया और पैसों की पोटली कम्बल के भीतर छुपा ली। वह अब एक सुनसान रास्ते से गुजर रहा था। कुछ दूर जाने के बाद एक लुटेरे ने उसे रोक लिया। उसने बन्दूक दिखाते हुए बोला -‘जो भी तुम्हारे पास है चुपचाप मेरे हवाले कर दो नहीं मैं तुम्हे गोली मार दूंगा। ‘यह सुनकर बढ़ई ने कहा ,’ठीक है ये रुपये तुम रख लो पर सोचो मैं घर पहुँच कर अपनी बीबी से क्या कहूंगा ?वह तो यही सोचेगी कि मैंने पैसे जुये में उड़ा दिए। तुम एक काम करो ,तुम अपनी बन्दूक की गोली से मेरी टोपी में एक छेद कर दो ताकि मेरी बीबी को लूट का यकीन हो जाए। लुटेरे ने वैसे ही किया। अब लुटेरा जाने लगा ,तो बढ़ई ने कहा -‘मेरा एक काम और कर दो। जिससे की मेरी बीबी को यकीन हो जाए कि लुटेरों के गैंग ने मिलकर मुझे लूटा है। ‘वरना मेरी बीबी मुझे कायर समझेगी .तुम इस कम्बल में चार -पांच छेद कर दो। .लुटेरे ने बड़ी शान से कम्बल में कई छेद कर दिए। इसके बाद बढ़ई ने अपना कोट भी निकाल दिया और कहा कि इसमें भी छेड़ कर दो ताकि गाँव वालों को पक्का यकीं हो जाये कि मैंने बहुत संघर्ष किया था। इसपर लुटेरा बोला -‘बस कर, मेरी बन्दूक की साड़ी गोलियां खत्म हो चुकी हैं ”यह सुनते ही बढ़ई ने लूटेरे को दबोच लिया। तुम्हारी ताकत सिर्फ यह बन्दूक थी अब तुम्हारी कोई ताकत मुझपर नहीं चल सकती। चुपचाप मेरी पोटली वापस कर दे वरना —-यह सुनते ही लूटेरा पस्त हो गया उसने तुरत पोटली वापस कर दी और अपनी जान बचाकर भाग खड़ा हुआ सच ही तो है मुश्किल से मुश्किल हालात में भी अपनी बुद्धि का इस्तेमाल कर आप मुसीबतों से आसानी से निकल सकते हैं। सुधी पाठकगण, इस कहानी का भावार्थ समझ सकते हैं।
और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
लाइफ इस ब्यूटीफुल-An inspirational story of a movie life is beautiful
पुनर्जन्म-three motivational stories with a motivational poem of gulzaar
अनसुलझे रहस्य-Three New Hindi motivational stories of the month
Two new motivational stories about Chanakya niti and solutions,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
[२] समाधान -एक व्यापारी था। उसके पास एक बेश कीमती हीरा था। एक दीं उस हीरे को एक चूहे ने निगल लिया। व्यापारी हुआ हैरान परेशान। उसने एक शिकारी को बुलाया। घर में सैकड़ो चूहे थे। किस चूहे ने हीरा निगला था यह पता करना मुश्किल था। शिकारी ने एक युक्ति भिड़ाई और चूहे को पकड़ कर व्यापारी को हीरा वापस कर दिया। जब लोगों ने पूछा तो उस शिकारी ने कहा ,-यह चूहा अपने तमाम साथियों से अलग कोने में बैठा था। मैं समझ गया कि इसने ही हीरा निगला है। मुर्ख और काहिल के पास अगर एकाएक धन हो जाए तो वह अभिमानी हो जाता है। और दम्भ में वह अकेला रहता है और अहंकारवश किसी से बात नहीं करता।

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-Two new motivational stories about Chanakya niti and solutions,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like