Articles Hub

Two New short inspirational stories of 2019

1.
(मानवता की झलक)

Two New short inspirational stories of 2019,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
एक किसान के पास बहुत पिल्ले थे तो वह कुछ पिल्लो को बेचना चाहता था. उसने घर के बाहर बिक्री का बोर्ड लगा दिया. एक दिन दस साल का बच्चा किसान के दरवाजे पर आया और बोला, ” मैं एक पिल्ला खरीदना चाहता हूँ. आप एक पिल्ला कितने रूपये में देंगे ?
किसान ने कहा, ” एक पिल्ला दौ सौ रूपये का है.
यह सुनकर वह लड़का बोला, ” मेरे पास अभी तो केवल सौ रूपये है. बाकी कीमत मैं आपको हर महीने 25 रूपये देकर चुकाऊंगा. क्या आप मुझे पिल्ला देंगे ?
किसान ने सौ रूपये लिए और पिल्लो को बुलाने के लिए सीटी बजायी. चार छोटे – छोटे पिल्ले बाहर आ गये. बच्चे ने एक पिल्ले को सहलाया. अचानक उसकी नजर पांचवे पिल्ले पर पड़ी. वह लंगडाकर चल रहा था.
मुझे वह पिल्ला चाहिए, ” बच्चे ने कहा. लेकिन वह तो तुम्हारे साथ खेल भी नहीं पायेगा. इसका तो एक पैर ख़राब है. कोई बात नहीं. मुझे वही पिल्ला पसंद है. मुझे इसी की जरुरत है,” बच्चा बोला.
तब तुम इसे ले जाओ. इसके दाम देने की आवश्यकता नहीं है – किसान बोला
नहीं यह पिल्ला भी उतना ही महत्वपूर्ण है और मैं आपको इसकी पूरी कीमत दूंगा,” बच्चा बोला.
लेकिन तुम्हे यह पिल्ला क्यों चाहिए ? जबकि इतने सारे और पिल्ले भी है- किसान बोला
ताकि उसका दर्द समझने और बांटने वाला भी कोई हो. ताकि वो दुनिया में खुद को अकेला न समझे. कहकर बच्चे ने पिल्ला उठाया और वापस चल दिया.
जब वह लड़का जाने लगा तब किसान ने देखा, वह बच्चा भी एक पैर में विशेष जूता पहने था. किसान सोचने लगा की एक ‘घायल की गति घायल ही जान सकता है’.

Moral
इस कहानी में लड़के ने उस लंगड़े पिल्ले को इसलिए ख़रीदा क्योंकि वह उस पिल्ले के दुःख को जानता था. वह लड़का स्वयं भी एक पैर से लंगड़ा था. इसलिए उसने स्वस्थ और खुबसूरत पिल्ले लेने के बजाय लंगड़े हुए पिल्ले को चुना. दुःख तो हमारे जीवन का सबसे बड़ा रस है.
जिसे जीवन में दुःख नहीं मिला उसे सुख की अनुभूति भला क्या होगी. जो स्वयं दुःख का अनुभव करता है वही दूसरे के दुःख को पहचान पाता है. यही मानवता का सबसे बड़ा गुण है. हमें जब कभी भी किसी दुखी और असहाय प्राणी या जीव – जंतु की सेवा का अवसर मिले तो उसे सच्चे मन से निभाना चाहिए. तभी हम मानव कहलाने के असली हकदार होंगे.

और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
बदलाव की एक प्रेरक कहानी
चालक भेड़िये और खरगोश की प्रेरक कहानी
कोयल और मोर की प्रेरणादायक कहानी
2.
(बुढिया की सुई)
Two New short inspirational stories of 2019,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
:एक बार एक बूढी अम्मा रात के समय में अपने घर के बहार एक road पर जलती हुयी लाइट के नीचे कुछ ढूंढ रही थी।तभी एक गांव वाला वहा से गुजर रहा था।उसने ने उस बुढ़िया से पूछा “अम्मा इतनी अँधेरी रात को road के लाइट के नीचे क्या ढूंढ रही हो?”
बूढी अम्मा बोली “कुछ नहीं बेटा बस मेरी सूई गुम हो गयी है,बस वही ढूंढ रही हूँ।
फिर क्या था वह आदमी भी उस अम्मा की मदद में लग गया।वह भी उसके साथ सुई ढूंढने में लग गया।कुछ देर में कुछ और गांव वाले आये और इस खोज अभियान में वह भी शामिल हो गये।देखते ही देखते पूरा गाँव वह सुई ढूंढने में लग गया।
सभी बड़े ध्यान से सुई ढूंढने में लगे थे तभी एक व्यक्ति से बूढी अम्मा से पूछा “अम्मा ये तो बताओ सुई गिरी थी कहा?
बूढ़ी अम्मा बोली “बेटा, सुई तो झोपड़ी के अंदर गिरी थी।
यह सब सुनते ही सब बड़े क्रोदित हो उठे।और ऊँचे स्वर में एक व्यकति ने कहा “अम्मा कमाल करती हो।हम इतनी देर से यहाँ सुई ढूंढ रहे है जबकि सुई गिरी थी झोपड़ी के अंदर, आखरी सुई वहा खोजने की बजाये यहाँ क्यों खोज रही हो?”
बुढ़िया ने उत्तर दिया “क्योंकि बाहर लाइट जल रही है।”
शायद ऐसा ही आज के युवा अपने भविष्य को लेकर करते है।सभी ढूंढते है कि लाइट कहा जल रही है, वो ये नहीं सोचते की हमारा दिल क्या कह रहा है हमारी सुई कहा गिरी है।दोस्तों हमे ऐसा नहीं करना चाहिए बल्कि हमें जानने की कोशिश करना चाहिए की हम किस filed में अच्छा कर सकते है और उसी में अपना करियर बनाये नाकि भेड़ की तरह चाल चलते हुये किसी भी फील्ड में जहा सब जा रहे है, जहा पैसा नजर आ रहा है,जहाँ उजाला भविष्य दिख रहा है, वहां उनके साथ चल दे।
मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-Two New short inspirational stories of 2019,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like