ga('send', 'pageview');
Articles Hub

सूरत और सीरत-two new short motivational stories one about colour and face other about birbal

two new short motivational stories one about colour and face other about birbal
सूरत और सीरत
two new short motivational stories one about colour and face other about birbal,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
सुकरात एक दार्शनिक थे ,दिखने में निहायत ही कुरूप एक बार वो अपने कमरे में बैठकर आईने में सूरत निहार रहे थे कि इतने में एक शिष्य उन्हें देखकर अजीब सा महसूस करता है और मुस्कराता है। सुकरात उसके मुस्कान को भांप लेते हैं। सुकरात ने कहा -तुम इसलिए मुस्कुरा रहे हो कि मैं कुरूप हूँ और मुझे आईना देखने की क्या जरूरत है। देखो ,मैं इसलिए रोज आइना देखता हूँ ताकि मुझे अपने कुरूपता का एहसास रहे. मैं हमेशा अच्छे काम करूँ ताकि मेरी कुरूपता अच्छे कामों से ढँक जाये। शिष्य ने कहा -‘गुरूजी इसका मतलब जो लोग सुन्दर हैं उन्हें आइना नहीं देखनी चाहिए ? सुकरात ने कहा -‘उन्हें तो हमेशा आइना देखते रहना चाहिए ताकि उन्हें एहसास रहे कि जितने सुन्दर वे दीखते हैं उसी के अनुरूप वे अच्छा काम करें क्योंकि सूरत से अधिक सीरत की कुरूपता दुखदायी होती है।
और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
अनंत इच्छाएं-Infinite desires a new sensational story of Leo Tolstoy in hindi language
कानून के दरवाजे पर-On the doors of law a motivational hindi language story
दो रोचक कहानियां-Two interesting stories in hindi language for kids
two new short motivational stories one about colour and face other about birbal,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
[२] बीरबल की चतुराई -प्राचीन समय में यह प्रचलन था कि एक राजा दूसरे राजा की परीक्षा लिया करता था। एक बार फारस के बादशाह ने बादशाह अकबर नीँचा दिखाने के लिए एक शेर बनवाया और उसे पिंजरे में बंद कर बादशाह अकबर के पास भेज दिया। और सन्देश भेजा कि यदि उनके दरबार में कोई बुद्धिमान व्यक्ति है तो शेर को बिना पिंजरा खोले ही निकाल दे। शर्त यह कि अगर वे ऐसा नहीं कर सके तो दिल्ली पर फारस का अधिकार हो जाएगा। कोई दरबारी इस समस्या का हल ढूंढ नहीं सका। बादशाह को अपनी शान मिटटी में मिलती दिखाई देने लगी। अब बीरबल की बारी थी। बीरबल ने पहले शेर को अच्छी तरह से देखा। फिर एक गर्म लोहे की छड़ से थोड़ी ही देर में शेर को पिंजरे से गायब कर दिया। शेर माँ का बना यह बीरबल ने भांप लिया था। फारस के बादशाह ने बीरबल की चतुराई देखकर दंग रह गए।

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-two new short motivational stories one about colour and face other about birbal,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like