Articles Hub

Two Short but Great inspirational story in hindi language

1.
(धक्का)
Two Short but Great inspirational story in hindi language,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
एक गांव में एक बड़ा सा तालाब था।वह तालाब में बहुत सारे मगरमच्छ,शांप, मेंढक और कई प्रकार के जीव रहते थे।इतने डरवाने पानी के भीतर किसी भी व्यक्ति को जाने की हिम्मत नहीं होती थी।भला क्यों कोई अपनी जान गवाना चाहेगा।
एक दिन गांव के कुछ लोगो के दिमाग में आया की क्यों ना एक रेश करवाई जाए।रेस में अगर जो भी इस तालाब को एक किनारे से दूसरे किनारे तक पहुँच जायेगा उसे बहुत बड़ा इनाम दिया जायेगा।
फिर क्या था कुछ दिनों बाद रेश का दिन आया।रेश को देखने के लिए कई लोग आये थे पर उस रेश में कोई हिसा नही लेना चाहता था।कई तेराके भी वहा हिसा लेने आये थे पर सभी मगरमच्छ की बात सुन कर डर से उस रैश में हिसा लेने से मना कर दिये।बहुत देर तक इंतजार किया गया पर कोई तालाब के अंदर नहीं जाना चाहता था की अचानक से एक आदमी नदी में कूद कर जल्दी जल्दी तैरने लगा और तैरते तैरते वह तालाब के दूसरी और जा पहुँच।
यह देख सभी आश्चर्य चकित हो उठे।एक व्यकति ने बोला आपने बड़े ही बहादुरी का काम किये है।आप इस रेश के विजेता है,आपको इसके लिए इनाम दिया जायेगा।मीडिया के कई लोग उसे घेर कर खड़े हों गए और सवाल करने लगे की आप में इतनी हिमत कहा से आयी।।आपने यह कार्य कैसे कर लिया।।वगेरा वगेरा।।।
तभी वह व्यकति बोला “इनाम विनाम तो हम ले लेंगे,ये सब छोडो आप लोग ये बताये की मुझे धक्का किसने दिया?

Moral
,ये कोई कहानी तो नहीं है बिलकुल यह एक छोटा सा जोक था।पर दोस्तों इस कहानी में सिखने लायक बहुत कुछ है।अक्सर हमें अपना लक्ष्य पाने की काबिलियत होती है।उस लड़के में वह तालाब में कूद कर तालाब को पर करने की काबिलियत तो थी पर वह अपने आप नहीं कूदा,किसी ने धक्का दिया और उसने मगरमच्छ से बचने के डर से वह रेश पर काफी ली।अगर उसको कोई धक्का नहीं देता तो वह कभी कूदने की नहीं सोचता और नाही वह रेश का विजेता बनता।अब उसकी जिंदग बदल चुकी थी।दोस्तों ऐसे ही हमारे अंदर कई टेलेंट छुपे होते है।जब तक हमारे अंदर confidance और rishk उतने की हिमत नहीं होती तब तक हम अपने लाइफ में किसी challenge में कीड़े बगैर ही हर मन लेते है।हमे ऐसा बनाना चाहिए,हमारे अंदर ऐसा confidance होना चाहिए की जिंदगी में मोलाने वाले अवसर का पूरा लाभ उठाना चाहिए।

और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
बदलाव की एक प्रेरक कहानी
चालक भेड़िये और खरगोश की प्रेरक कहानी
कोयल और मोर की प्रेरणादायक कहानी
2.
(पत्थर की कीमत)
Two Short but Great inspirational story in hindi language,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
एक शहर में एक बहुत बड़ा हीरो का व्यापारी रहता था जो हीरो का विशेषज्ञ माना जाता था।कुछ समय बाद वह बीमार पड़ने के कारण उसकी अल्प आयु में ही मृत्यु हो गयी।अपने पीछे वह अपना बेटा और अपनी पत्नी छोड़ गया।
अब उस व्यपारी की पत्नी अपने बेठे का पालन पोषण करके उसको पालने लगी।जब बेटा बड़ा हुआ तो माँ ने बेटे से कहा “बेटा मरने से पहले तुम्हारे पिताजी यह पत्थर छोड़ गए थे।तुम मार्केट में जाओ और इस पत्थर की कीमत पता करके आवो और ध्यान रहे की तुम्हे इसकी केवल कीमत पता करनी है बेचना नहीं है।”
अब वह युवक वो पत्थर लेकर मार्किट की और निकल पड़ा।वह सबसे पहले एक सब्ज़ी वाली के दुकान पर गया और जा कर बोला “अम्मा,आप यह पत्थर की जगह मुझे क्या दे सकती है?
सब्जी वाली ने कहा “देना ही है तो मुझे यह दो लौकी के बदले दे दो,यह पत्थर मुझे तोलने के काम आ जायेगा।”
फिर वह युवक आगे बढ़ गया औऱ उसको चलते चलते एक दुकानदार दिखायी दिया और उसके पास जा कर उस पत्थर की कीमत जाननी चाही।
दुकानदार बोला “इसके बदले में तुम्हे 1000 रुपए दे सकता हु अगर तुम्हे मंजूर है तो दे दो।”
फिर वह बिना कुछ बोले आगे की और बढ़ गया।कुछ ही दूर चलते उसको एक सुनार की दुकान दिखयी दी।वह उसके पास गया।सुना बोला “में तुम्हे इसके बदले 20 हज़ार रुपये दे सकता हूँ।”
इसके बाद वह एक बड़े हीरे के व्यपारी के पास गया औऱ उस हीरे के व्यपारी ने उसे उसके बदले 1 लाख रुपये देने की बात की।
फिर वह अंत में वह शहर के सबसे बड़े हीरो के विशेषज्ञ के पास पंहुचा और बोला “श्रीमान, यह कोनसा पत्थर है? कृपया इस पत्थर की कीमत बताने का कष्ट करे।”
उस विशेषज्ञ ने उस पत्थर का ध्यान से निरक्षण किया और उस युवक की तरफ आश्चर्य से देखे हुए बोला “यह पत्थर तुम्हे कहा से मिला?यह तो अमूल्य हिरा है।यह हीरा करोड़ो देकर भी मिलना मुश्किल है।”

Moral
,गहरई से सोचा जाये तो ऐसा ही मूल्यवान हीरा हमारा जीवन भी है।यह अलग बात है कि हम में से बहुत लोग इश्कि कीमत नही जानते।और उस सब्जी बेचने वाली महिला की तरह मामूली समझकर उसके तुच्छ कामो में लगा देते है।दोस्तों आपकी कीमत कई लोग उस सब्जी वाली महिला की तरह कम आंकते है और दूसरों के कहने से आप खुदकी काबिलियत से भरोसा तोड़ देते है।असल में हीरे की कीमत वह हीरो का जोहार ही बता सकता है।इसलिए दोस्तों किसी भी व्यक्ति को कम मत आके।हर इंसान के अंदर अपनी एक खासियत होती है जो हर कोई नहीं देख सकता।
मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-Two Short but Great inspirational story in hindi language,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like