Articles Hub

unreal news in hindi-आई फ़ोन के बदले मिला रिन साबुन






हम एक से बचकर एक व्यंग्य देसिकहानियाँ पर प्रकाशित करते रहते हैं। पेश है इसी कड़ी में “आई फ़ोन के बदले मिला रिन साबुन” unreal news in hindi.आशा है ये आपको अच्छी लगेगी।
लेखक-आदित्य
मैं दिल्ली में कॉल सेंटर में काम करता था, एक दिन शाम को मैं बस स्टॉप पर बस का इंतजार कर रहा था, तभी पता चला की बस इस रूट से ना कर दूसरे रूट से आएगी क्योंकि आगे जाम लगा हुआ था। मैं पैदल ही दूसरे बस स्टॉप की तरफ बढ़ गया, तभी पीछे से किसी ने आवाज दी, मैं पीछे मुड़ कर देखा तो एक आदमी मुझे ही रुकने को बोल रहा है, मैं रुक गया, सोचा कुछ काम होगा, अचानक वो आदमी मेरे पास आया और बोला एप्पल का आई फ़ोन लेना है, मैंने कहा नहीं लेना, उस आदमी ने कहा एक बार देख तो लो, मैंने कहा दिखा दो, आदमी ने काले रंग की कवर से एक फोन निकाला जो की वाकई आई फ़ोन था, उस आदमी ने कहा इस फोन की बाजार में कीमत 40 हजार है, लेकिन मुझे पैसो की बहुत जरूरत है इसलिए मैं इसे 10 हजार में ही बेचूंगा, आपको लेना है तो ले लो। मैंने कहा मेरे पास 10 हजार नहीं हैं, सिर्फ 6 हजार हैं, इसलिए मैं नहीं खरीद सकता और ये कहते मैं आगे बढ़ गया, तभी उस आदमी ने कहा मुझे 6 हजार ही दे दो और मेरा फोन ले लो। अब तो मेरे मन में भी लालच आ गयी की आई फ़ोन वो भी 6 हजार में, मैंने कहा पैसा एटीएम में है, उस इंसान ने कहा पास में ही एटीएम है, निकल कर दे दो ।


और भी व्यंग्य कहानियां पढ़ें=>
क्या सोनम गुप्ता बेवफा है.
ऑनलाइन मजाक
ये हैं बाबा
फेसबुक ने मारा बिट्टू को
जब लड़की ने चटाई से फर्श पर कूद कर जान दी

मैंने एटीएम से पैसे निकल कर दिए और उस आदमी ने वो काला बेग जिसमे आई फ़ोन था मुझे थमाया और तभी उसका दूसरा साथी बाइक से आया और उस आदमी को मेरे सामने ही बाइक पर बिठा कर आँखों के सामने से ओझल हो गया, मैं भी आई फ़ोन वाला काला बेग पेंट की जेब में रख कर बस स्टॉप की और बढ़ गया, और फिर बस से वापस अपनी फ्लैट पर आ गया। फ्लैट पहुँच कर मैं बहुत ज्यादा खुश था क्योंकि मुझे 6 हजार में ही आई फ़ोन मिल गया था। मैंने जेब से काला बेग निकाला और बेग की चैन खोलने की बहुत कोशिश की लेकिन बेग नहीं खुला और अंत में मैंने चैन तोड़ कर बेग खोल तो जो देखा उससे मेरे होश उड़ गए मैं अपनी आपको ठगा हुआ सा मह्शूश कर रहा था, मुझे खुद पर गुस्सा आ रहा था फिर रोना आने लगा, क्योंकि मैंने 6 हजार लुटा दिए थे, मुझे उस इंसान ने बिना पान के चुना लगा दिया था, क्योंकि उस बेग में आई फ़ोन की जगह कपडा धोने वाला रिन साबुन था, वो कहते हैं तो दुसरो को बता कर तकलीफ काम किया जा सकता है, लेकिन मैं अपनी तकलीफ किसे बताता और क्या बताता की मैंने 6 हजार का रिन साबुन ख़रीदा है या ये की मैं बेवकूफ बन गया, इसलिए मैं चुप ही रह गया और आज भी जब सोचता हूँ तो मुझे खुद पर रोना आता है की मैंने कभी 6 हजार का रिन साबुन ख़रीदा था।
हमें अपेक्षा है की ये “unreal news in hindi.” पोस्ट आपको बेहतरीन लगी होगी। अगर ऐसा है तो कृपया इसे फेसबुक और व्हाट्स ऐप्प पर अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ शेयर करें। धन्यवाद्



80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like