ga('send', 'pageview');
Articles Hub

वह कौन था-Who was that a new Strange story in hindi language

वह कौन था ?
Who was that a new Strange story in hindi language,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
यह कहानी जर्मनी के एक शहर की है ,एक मोची ने सैर- सपाटे करने की ठानी। उसे पता तक नहीं था कि वह एक रहस्मय पात्र बनने जा रहा है। हुआ यूँ की उसकी नज़र सोलह बर्ष के एक किशोर पर पड़ी जो एक बीमार बिल्ली की तरह रो रहा था। मोची उसके गया। और रोने का कारण पूछा। उसने जोर से रोना शुरू कर दिया और उसके सामने एक पत्र बढ़ा दिया। पात्र एक घुड़सवार दस्ते के कमांडिंग अफसर के नाम था। दोनों उस अफसर की घर की तरफ चल पड़े। कप्तान घर पर नहीं था। नौकर ने उसे ठहरा लिया। वह खा -पीकर घास के गद्दे गया। कप्तान घर लौटने पर उस पत्र को पढ़ना शुरू किया। उसमे लिखा था ,-पत्रवाहक निपट अज्ञानी और नमूना है। पर वह घुड़सवार दस्ते के लिए सर्वथा उपयुक्त है। कप्तान ने उस लड़के को उठाया जवाब में उसने सिर्फ तीन वाक्य कहे। अपने पिता की तरह सैनिक बनाना चाहता हूँ ,नहीं जानता हूँ ,और घोड़े का घर। कप्तान ने खीजकर उसे पुलिस के हवाले कर दिया। पूछताछ में उसने वही तीन वाक्य दुहराए . पुलिस ने उसपर अव्वारागर्दी का आरोप लगाकर जेल में बंद कर दिया। वह सारी रात सोता रहता और दिन में शून्य की तरफ टकटकी लगाकर देखता रहता। जेलर घबरा गया और ध्यान बांटने के लिए उसे कागज़ -पेंसिल दिया। उसने कागज़ पर लिखना शुरू किया। मात्र तीन शब्द -रीटर कास्पर हाउजर। ऐसा मान लिया गया की उस किशोर का नाम कास्पर हौज़र है। उसे तेज़ रौशनी नापसंद था वह अँधेरे में रहना पसंद करता था। उसके पैर नाज़ुक और छोटे थे। और उसने जूते निकाल फेंके थे। उसकी जेब में बालू का एक पुड़िया था। उसकी चर्चा होने लगी लोग इस बात पर एकमत थे कि वह महामूर्ख है। वह अक्सर कोई भी अच्छी चीज़ देखने पर घोड़ा शब्द का इस्तेमाल करता। यह किशोर कौन है ,कहाँ से आया है कहा नहीं जा सकता। अँधेरी गुफा में रहने के कारण इसने कभी रोशनी नहीं देखि ना ही कभी तेज़ आवाज़ सुनी। एक दिन यह घोड़े के साथ खेल रहा था तब उस आदमी ने इसे डंडे से मारा। डॉक्टर तोमर ने पाया कि हॉउज़र का इन्द्रिय -बोध पशुओं की तरह असाधारण रूप से तेज़ है। वह अँधेरे में भी सूंघकर किसी पशु को ढूढ़ सकता था। पका हुआ मांस उसे बिलकुल पसंद नहीं था। फिर एक दिन ऐसा आया जब कास्पर पढ़ने लिखने लगा वह आत्मकथा लिखने लगा। पर कोई कास्पर से भयभीत था।
और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
दो गजब की कहानियां-Two new and short amazing stories in hindi language
सात बरस की बिटिया-Daughter of seven years a new motivational story of two brothers
अन्याय का अंत-End of injustice an interesting motivational story in hindi language
Who was that a new Strange story in hindi language,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

वह डॉक्टर तोमर के तहखाने में अचेत पाया गया। उसके कपाल पर एक गहरा जख्म था। उसे ऐसी जगह पर रखा गया जहाँ हमले होने की आशंका ना हो। दो सिपाही भी तैनात कर दिए गए। सं 1831 में लार्ड स्टेनहोप नाम के अँगरेज़ ने कास्पर को अपने साथ ले गए। वास्तव में उसकी बुद्धि आठ बर्ष के बालक जैसी थी। किसी सर्कस से भागे हुए हाथी की तरह कुछ लोग उसका प्रदर्शन करने लगे। एक दिन किसी ने उसपर छुरे से वार कर दिया ,और वह बेहोश हो गया। कास्पर हौज़र की हालत बिगड़ती चली गयी और 17 दिसंबर को उसका देहांत हो गया। सारा आन्सबाक चकित रह गया और खलबली मच गयी। बहुत तरह की बातें फैली और कास्पर -कथा को इस युग की सबसे बड़ा ठगी कहा। उसके कब्र पर यह इबारत खुदी है -‘इस जमाने का एक रहस्य यहां दफ़न है ,इसका जन्म अज्ञात है और मृत्यु रहस्य्पूर्ण ,’ किसी ने उसे किसी किसान परिवार का अवाँछित बच्चा बताया। किसी ने उसे अमीर घर से सम्बन्ध बताया। या वह किसी अन्य ग्रह से था, कौन जाने ? एक जांच में पता चला कि कास्पर हॉउज़र को जहां छुरा मारा गया था वहाँ बर्फ की मोटी परत जमी थी एवं जो पाँवों के निशाँ न पाए गए वे स्वयं कास्पर के थे। अंत में फोर्ट ने लिखा ,-‘किसी राजनितिक मामलों का भंडाफोड़ होने से रोकने के लिए कास्पर की ह्त्या की गई। कास्पर हॉउज़र कौन था यह आजतक रहस्य ही बना हुआ है।

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-Who was that a new Strange story in hindi language,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like