ga('send', 'pageview');
Articles Hub

खिडकी-window And two words two new short inspirational stories in hindi language

खिडकी
window And two words two new short inspirational stories in hindi language,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language
एक बार एक नव विवाहित जोडा किसी किराये के मकान मे रहते थे . सुबह जब् वे नाश्ता कर रहे थे तभी पत्नी ने खिडकी से देखा कि सामने वाले छत् पर कुछ् कपडे फैले हैं . उसने कहा -‘लगता है इन लोगो को कपडा भी साफ़् करना नही आता .’देखो तो कितने गन्दे लग रहे हैं? पति ने उसकी बातो पर कोइ ध्यान नहीं दिया . एक -दो दिन बाद उसी जगह फिर कुछ् कपडे फैले थे .पत्नी ने बात को दुहराते हुये कहा कि पता नहीं ये लोग कब् सीखेंगे कि कपडे कैसे साफ़् किये जाते हैं ? पति सुनता रहा पर कोइ जवाब् नही दिया. अब तो ये नित्य दिन कि बात हो गयी . लगभग एक महिने बाद वे नास्ता करने बैठे थे तभी पत्नी ने कहा -‘लगता है इन लोगो को अक्ल आ ही गयी ,आज तो कपडे बिल्कुल साफ़् दिख् रहे हैं .जरूर किसी ने टोका होगा .पति ने कहा -उन्हे किसी ने नहि टोका आज सुबह् मैने इस खिडकी के कांच को बाहर से साफ़् कर दिया इसलिये तुम्हे कपडे साफ़् नजर आ रहे हैं .पत्नी चुप .जिन्दगी मे भी यही बात लागू होती है .किसी को भला -बुरा कहने से पहले अपनी मनस्थिति देख लेनी चाहिए और खुद से पुछ्ना चाहिये कि क्या सामने वाले से कुछः बेहतर देखने के लिये तैयार हैं या अभी भी हमारी खिडकी गन्दी है ?
और भी प्रेरक कहना पढ़ना ना भूलें==>
संबंध-The Relation a new Simple and short Hindi love story of a childhood couple
रहस्मय पेड़ की कहानी-Story of a mysterious tree a new small knowledgeable hindi language story
सूरत और सीरत-two new short motivational stories one about colour and face other about birbal
window And two words two new short inspirational stories in hindi language,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

[2] दो शब्द -बहुत समय पहले कि बात है एक मठ मे शिक्षा देने का तरीका अलग था .दस साल पुरा होने पर ही कोइ शिष्य गुरु से दो शब्द बोल सकता था .दस साल बीतने पर एक शिष्य बोला -‘खाना गन्दा ‘गुरु ने सिर हिला दिया .फिर दस साल बीतने पर दुसरा शिष्य बोला -‘बिस्तर कठोर .गुरु ने फिर अपना सिर हिला दिया .दस साल बीतने पर मठ छोडने के लिये आज्ञा लेने पहुचा गुरु बोले -नही होगा ‘जानता था ,गुरु ने आज्ञा दे दी .और मन ही मन सोचा जो थोडा सा मौका मिलने पर भी शिकायत करता है

मैं आशा करता हूँ की आपको ये story आपको अच्छी लगी होगी। कृपया इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ फेसबुक और व्हाट्स ऍप पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। धन्यवाद्। ऐसी ही और कहानियों के लिए देसिकहानियाँ वेबसाइट पर घंटी का चिन्ह दबा कर सब्सक्राइब करें।

Tags-window And two words two new short inspirational stories in hindi language,inspirational story in hindi,inspirational story in hindi for students, motivational stories in hindi for employees, best inspirational story in hindi, motivational stories in hindi language

80%
Awesome
  • Design
loading...
You might also like